DD ने खूब जोर लगाया पर धोनी और वॉटसन के आगे हुई पस्त, चेन्नई नंबर वन

Advertisements

खेल डे।स्क। चेन्नई सुपर किंग्स ने दिल्ली डेयरडेविल्स के सामने 212 रन का लक्ष्य रखा था, लेकिन श्रेयस अय्यर एंड कंपनी रोमांचक मुकाबले में 13 रन से हार गई. यह चेन्नई की आईपीएल 11 में आठ मैचों में छठी जीत है और वह एक बार फिर प्वाइंट टेबल में टॉप पर पहुंच गई है.

बहरहाल, 212 रन का लेक्ष्य लेकर उतरी दिल्ली डेयरडेविल्स की पारी को पृथ्वी शॉ और कोलिन मुनरो ने शुरू किया, लेकिन पिछले दो मैच में शानदार प्रदर्शन करने वाले शॉ इस बार बड़ा स्कोर नहीं बना सके. वह नौ रन के स्कोर केएम आसिफ की गेंद पर रवींद्र जडेजा को कैच दे बैठे. आसिफ ने आईपीएल में डेब्यू करते हुए अपना ​पहला विकेट लिया.दिल्ली का दूसरा विकेट कोलिन मुनरो (26) के रूप में गिरा. उन्हें भी केएम आसिफ ने अपना शिकार बनाया. 16 गेंदों पर तीन चौके और दो छक्के लगाने वाले मुनरो को कर्ण शर्मा ने कैच किया.

लगातार तीन अर्धशतक लगाने वाले दिल्ली के कप्तान श्रेयस अय्यर (13) रन आउट हुए. जिस समय वह आउट हुए तब दिल्ली का स्कोर 64 रन था. ज‍बकि दिल्‍ली का चौथा विकेट ग्‍लेन मैक्‍सवेल के रूप में गिरा,जिन्‍हें छह रन के निजी स्‍कोर पर रवींद्र जडेजा ने अपना शिकार बनाया. हालांकि इसके बाद रिषभ पंत और विजय शंकर ने टीम को संभाला और छठे विकेट के लिए 88 रन जोड़े. इस वक्त लग रहा था पंत टीम को जीत दिला सकते हैं, लेकिन वो लुंगी एन्गिडी को मारने के चक्कर में लपके गए. पंत ने सर्वाधिक 79 रन बनाए, जिसके लिए उन्होंने 45 गेंदें खेलीं और सात चौके तथा चार छक्के लगाए.जबकि विजय शंकर 31 गेंदों में नाबाद 54 रन बनाकर पवेलियन लौटे. विजय ने एक चौका और पांच छक्के लगाए.

चेन्नई सुपर किंग्स के लिए केएम आसिफ ने दो विकेट लिये. जबकि एक एक विकेट रवींद्र जडेजा और लुंगी एन्गिडी को मिला. शेन वॉटसन को मैन आॅफ द मैच चुना गया.

चेन्‍नई सुपर किंग्‍स ने बनाए थे 211

शेन वॉटसन और कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के तूफानी अर्धशतकों से चेन्नई सुपर किंग्स ने इंडियन प्रीमियर लीग में दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ चार विकेट पर 211 रन बनाए. वॉटसन ने 40 गेंद में सात छक्कों और चार चौकों की मदद से 78 रन की पारी खेलने के अलावा फाफ डु प्लेसी (33) के साथ पहले विकेट के लिए 102 रन जोड़कर टीम को शानदार शुरुआत दिलाई. कप्तान धोनी (22 गेंद में 51 रन, पांच छक्के, दो चौके) ने इसके बाद अंबाती रायडू (41) के साथ डेथ ओवरों में ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी करते हुए टीम का स्कोर 200 रन के पार पहुंचाया. दोनों ने चौथे विकेट के लिए 79 रन की साझेदारी की.

टॉस हारकर बल्लेबाज़ी करने उतरे सुपर किंग्स को वॉटसन और डु प्‍लेसी (33) की जोड़ी ने धीमी लेकिन सतर्क शुरुआत दिलाई. सुपर किंग्स की टीम पहले चार ओवर में 25 रन ही बना सकी. लियाम प्लंकेट के पारी के पांचवें ओवर में वॉटसन ने लगातार दो छक्के जड़े जबकि डु प्‍लेसी ने भी छक्का मारा. वॉटसन ने आवेश खान पर छक्के के साथ छठे ओवर में टीम का स्कोर 50 रन के पार पहुंचाया.

वॉटसन ने प्लंकेट के अगले ओवर में भी लगातार दो छक्के मारे. उन्होंने स्पिनर राहुल तेवतिया पर छक्के के साथ 25 गेंद में अर्धशतक पूरा किया और फिर इसी ओवर में एक और छक्का मारा.  वॉटसन ने विजय शंकर पर एक रन के साथ 11वें ओवर में टीम के रनों का शतक पूरा किया. डु प्‍लेसी पर भी तेज गति से रन बनाने का दबाव बढ़ रहा था और इसी कोशिश में वह विजय शंकर की गेंद को लांग ऑफ पर ट्रेंट बोल्ट के हाथों में खेल गए. उन्होंने 33 गेंद का सामना करते हुए तीन चौके और एक छक्का मारा.
सुरेश रैना (01) भी अगले ओवर में कामचलाऊ स्पिनर ग्लेन मैक्सवेल की सीधी गेंद को पूरी तरह से चूककर बोल्ड हो गए. जबकि वॉटसन ने विजय शंकर पर दो चौके मारे लेकिन अमित मिश्रा की गेंद को उठाकर मारने की कोशिश में प्लंकेट को कैच दे बैठे. उन्होंने 40 गेंद का सामना करते हुए सात छक्के और चार चौके लगाए.

आवेश और मिश्रा ने इस बीच कुछ किफायती ओवर डाले लेकिन धोनी एक बार फिर आक्रामक अंदाज में दिखे. सीएसके के कप्तान ने मिश्रा पर छक्का जड़ने के बाद बोल्ट की लगातार गेंदों पर दो छक्के और एक चौका मारा. जबकि रायडू ने भी इस बीच प्लंकेट के ओवर में दो चौके और एक छक्का मारा.

पारी के 19वें ओवर में आवेश की गेंद पर कोलिन मुनरो ने धोनी का आसान कैच टपकाया. धोनी ने इसी ओवर की अंतिम गेंद पर छक्का जड़ा. धोनी ने अंतिम ओवर में बोल्ट पर छक्के के साथ टीम का स्कोर 200 रन के पार पहुंचाया. रायुडू इस बीच रन आउट हुए जिसके बाद धोनी ने अंतिम गेंद पर दो रन के साथ 22 गेंद में अर्धशतक पूरा किया.

प्लंकेट काफी महंगे साबित हुए और उन्होंने तीन ओवर में 52 रन लुटाए. जबकि अमित मिश्रा, ग्‍लेन मैक्‍सवेल और विजय शंकर ने एक एक विकेट लिया.

Advertisements