सेंट्रल एक्साइज ऑफिसर का बेटा इंदौर में कोडीन तस्करी में गिरफ्तार

Advertisements

इंदौर। नारकोटिक्स विभाग ने गुरुवार को सर्दी-खांसी की दवा तस्करी में सेंट्रल नारकोटिक्स ऑफिसर के बेटे को गिरफ्तार किया है। आरोपित से एक करोड़ 7 लाख रुपए कीमती 35,680 कोडीन सीरप शीशी बरामद हुई। तस्करी में थोक दवा व्यवसायी की तलाश है। गिरोह का नेटवर्क म्यांमार और त्रिपुरा तक फैला है।

yashbharat

एडीजी (नारकोटिक्स) वरुण कपूर के मुताबिक 9 अप्रैल को विंग ने मांगलिया (सेंट्रल पॉइंट) से 1 करोड़ 92 लाख रुपए कीमती सीरप के साथ ट्रक चालक मोहनलाल पाठक को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में मोहन ने बताया कि ड्रग्स तस्कर रंजन शुक्ला निवासी श्यामनगर (एनएक्स) के इशारे पर दवाइयां लोड कर सिलीगुड़ी जा रहा था।

इसे भी पढ़ें-  MP BOARD EXAM PAPER- कक्षा 12 जीव विज्ञान का पेपर लीक?

विंग ने बुधवार को रंजन को गिरफ्तार कर गोदाम की सर्चिंग की तो 223 पेटियां में भरी 35680 बोतल कोडीन सीरप बरामद हुई। एडीजी के मुताबिक बरामद कोडीन की खुदरा बाजार में कीमत 34 लाख 25 हजार रुपए है जबकि ब्लैक मार्केट में यह दवा 1 करोड़ 7 लाख की है।

आरोपित रंजन मूलत: बिहार का है। उसके पिता प्रमोद शुक्ला सेंट्रल एक्साइज (पीथमपुर) में प्रिवेंटिव ऑफिसर है। पूछताछ में उसने कई दवा व्यवसायियों के नाम कबूले हैं। उसने गिरोह का मुखिया मनीष भास्कर को बताया। भास्कर सीरप की खेप म्यांमार सप्लाय करता है। जहां 300 की सीरप 1 हजार रुपए में बिकती है।

Advertisements