उन्नाव गैंगरेप: BJP विधायक कुलदीप सेंगर CBI हिरासत में, पूछताछ जारी

Advertisements

लखनऊ: सीबीआई ने उन्नाव गैंगरेप मामले में 3 प्राथमिकियां दर्ज करने के बाद भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को शुक्रवार तड़के पूछताछ के लिए हिरासत में लिया। सूत्रों ने बताया कि सेंगर से सीबीआई के लखनऊ कार्यालय में पूछताछ की जा रही है। अधिकारियों ने बताया कि बलात्कार के कथित मामले और उसके बाद हुई घटनाओं के सिलसिले में 3 अलग-अलग प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं।

अपने विधायक पर बलात्कार के आरोप लगने से र्शिमंदगी झेल रही योगी आदित्यनाथ सरकार ने राज्य पुलिस द्वारा दर्ज किए गए मामलों को सीबीआई को सौंप दिया। अधिकारी ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से मामले की जांच सीबीआई से कराने के अनुरोध पर कार्मिक मंत्रालय ने गुरुवार रात इस संबंध में अधिसूचना जारी की।

इसे भी पढ़ें-  भारत बंद: प्रदर्शनकारियों ने पुलिस अधिकारी के पैर पर चढ़ाई कार, जख्मी DCP अस्पताल में भर्ती


उन्होंने कहा कि अधिसूचना जारी होने के बाद एजेंसी ने कार्रवाई करते हुए बांगरमऊ से भाजपा विधायक सेंगर को उनके आवास से सुबह करीब 5 बजे हिरासत में लिया। नाबालिग पीड़िता द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के समक्ष रविवार आत्मदाह के प्रयास के बाद पूरा मामला सुर्खियों में आया।

गौरतलब है कि बीते बुधवार शाम को लखनऊ एसएसपी के आवास के बाहर हाईवोल्टेज ड्रामा देखने को मिला था। जहां आरोपी भापा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर देर रात बेहद नाटकीय घटनाक्रम के तहत लखनऊ के एसएसपी के घर पहुंचे। खबरें आ रही थीं कि सेंगर यहां सरेंडर करेंगे, लेकिन हुआ कुछ और। विधायक एसएसपी के घर पहुंचे जरूर, लेकिन उन्होंने सरेंडर नहीं किया बल्कि वहां पर खुद को बेगुनाह बताते हुए कहने लगे कि वे सिर्फ एसएसपी से मिलने आए थे। सरेंडर के सवाल पर उन्होंने कहा कि जैसा पार्टी हाईकमान आदेश देगा, वे उसका पालन करेंगे।

इसे भी पढ़ें-  यह राक्षसी करतूत, इन्हें जीने का अधिकार नहीं,' 8 साल की बच्ची को रेप के बाद मारने वाले को जज ने सुनाई सजा-ए-मौत

आरोपी के खिलाफ इन धाराओं में दर्ज है केस
पीड़िता की मां की तहरीर पर उन्नाव के माखी थाने में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। विधायक के खिलाफ आईपीसी की धारा 363, 366, 376 ,506 और पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दायर किया गया है। गुरुवार को उत्तर प्रदेश के के डीजीपी ने कहा था कि मामला सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया गया है इसलिए गिरफ्तारी पर फैसला सीबीआई ही लेगी।

Advertisements