मोदी ने कहा – राजनीति को सेवा नीति में बदलें भाजपा के सांसद-विधायक

Advertisements

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय जनता पार्टी के सभी सांसद और विधायकों से कहा कि वे राजनीति को सेवानीति में बदलें। मोदी बुधवार को सांसद-विधायकों से मोबाइल पर बातचीत कर रहे थे।

प्रधानमंत्री ने चर्चा के दौरान सबका साथ-सबका विकास की अवधारणा को विस्तार से समझाते हुए समाज के सभी वर्गों के लिए प्रारंभ की गईं योजनाओं का क्रियान्वयन व्यवस्थित रूप से कराने को कहा। उन्होंने इस अवसर पर भारत के महान विचारक महात्मा ज्योतिबा फुले का स्मरण करते हुए उनकी सेवा भावना और महिला शिक्षा के संदेश को आत्मसात करने की अपील भी की।

लगभग एक घंटे तक चले इस संवाद में प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें राजनीति को सेवा नीति का माध्यम मानकर 14 अप्रैल से प्रारंभ होने वाले ग्राम स्वराज अभियान को गांव की हर चौपाल तक पहुंचाना है, ताकि सामाजिक समरसता को बढ़ावा मिलेे। 14 अप्रैल से 5 मई के बीच ग्राम स्वराज अभियान दो चरणों में होगा।

इसे भी पढ़ें-  Gujarat Cabinet Reshuffle Live: गुजरात में पूरे मंत्री बदल डाले

प्रथम चरण में 14 अप्रैल को जिला स्तर पर डॉ. अंबेडकर जयंती, 18 अप्रैल को स्वच्छ भारत पर्व के अंतर्गत ग्राम सफाई अभियान चलाया जायेगा। 20 अप्रैल को पंचायतों में नए गैस कनेक्शन वितरण कर उज्जवला पंचायत एवं 24 अप्रैल को राष्ट्रीय एवं ग्राम सभा स्तर पर पंचायती राज दिवस मनाया जायेगा।

उन्होंने बताया कि द्वितीय चरण में 28 अप्रैल को ग्राम शक्ति अभियान के तहत ब्लॉक एवं जिला स्तर पर लाभार्थी सम्मेलन होंगे। 30 अप्रैल को पंचायत केंद्रों पर आयुष्मान भारत अभियान, 2 मई को किसान कल्याण कार्यशाला ब्लाक स्तर पर आयोजित होगी एवं 5 मई को आजीविका एवं कौशल विकास मेले राष्ट्रीय एवं देश के 4 हजार ब्लाक केंद्रों पर आयोजित होंगे।

इसे भी पढ़ें-  सरकार का बड़ा कदम: भारत में सीधे फंड भेजने से नौ विदेशी NGOs को रोका, पढ़ें आखिर क्यों लिया गया ये फैसला

मोदी बोलते रहे सांसद संजर को अपनी बात कहने का नहीं मिला मौका

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा सांसद और विधायकों से हुई फोन पर चर्चा में डेढ़ महीने का होमवर्क सौंपा है। भोपाल सांसद आलोक संजर के मोबाइल पर प्रधानमंत्री कार्यालय से दोपहर में फोन आया, करीब एक घंटे तक मोदी ही बोलते रहे। सांसद संजर ने केवल सुना उन्हें अपनी बात कहने का मौका नहीं मिला।

प्रधानमंत्री मोदी ने यह सूचना भी दी कि 24 अप्रैल को वह जबलपुर आ रहे हैं। पर कार्यक्रम होंगे। उल्लेखनीय है कि देश के 3 सांसदों को ही मोदी से दोतरफा संवाद का मौका दिया गया था। इनमें मप्र का एक भी प्रतिनिधि शामिल नहीं है।

Advertisements