मैच में उत्पात : दर्शकों ने फेंका खिलाड़ियों पर जूता, लगाए नारे

Advertisements

खेल डेस्क। चेन्नई सुपर किंग्स और कोलकाता नाइट राइडर्स के बीच खेले जा रहे मैच में शर्मनाक वाक्या हुआ है। फील्डिंग कर रहे सीएसके के खिलाड़ी रवींद्र जडेजा पर जूता फेंका गया। हालांकि जडेजा जहां खड़े थे वहां तक जूता गिरा नहीं। इसके बाद दो बार और जूते फेंके गए, जोकि मैदान से बाहर बैठे फाफ डु प्लेसिस को लगे। वहीं, जिन लोगों ने जूता फेंका था उन्होंने मैच बंद कराने के नारे लगाने शुरू कर दिए। अचानक हुई इस हरकत के चलते पुलिस भी सकपका गई। फौरन दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। दो-तीन और को भी पकड़ा गया जो नारे लगा रहे थे।

जूता फेंकने से डु प्लेसिस हुए नाराज

मैच में दक्षिण अफ्रीका के फाफ डु प्लेसिस नहीं खेल रहे थे। ऐसे में टाइम आऊट के दौरान वह अपनी टीम के बल्लेबाजों को पानी देने के लिए ग्राउंड के अंदर गए थे। तभी उनपर दर्शकों ने जूता फेंक दिया। डु प्लेसिस को यह बुरा लगा। उन्होंने जूता उठाया और दर्शकों से इस व्यवहार का इशारों में कारण पूछा। लेकिन तब तक पुलिस उक्त दर्शकों को पकड़ चुकी थी।

कावेरी जल विवाद को लेकर हुआ था विवाद
दरअसल तमिलनाडु में इस समय कावेरी जल विवाद छाया हुआ है। इस दौरान एक गुट ने मैच न होने की चेतावनी दी थी। चेतावनी से सतर्क आईपीएल प्रबंधन ने दर्शकों को मैच में फोन तक न लाने की अपील की थी। स्टेडियम के अंदर-बाहर भारी संख्या में पुलिस व निजी सुरक्षा कर्मी मौजूद थे। ताजा विरोध सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले के कारण हो रहा है जो उसने कावेरी जल विवाद को लेकर दिया है। तमिलनाडु के लोग इस फैसले से नाराज है। उनका कहना है कि इस पानी पर उनका ज्यादा हक है।

विवाद की आशंका के चलते लेट हुई थी टॉस
आईपीएल का कोई भी मैच हो टॉस ठीक आधा घंटा पहले होती है। कोलकाता और चेन्नई मैच के दौरान भी दोनों टीमों के कप्तान ठीक 7.30 बजे मैदान में थे। लेकिन टॉस नहीं हुई। सभी दर्शक हैरान थे कि टॉस क्यों नहीं हो रही। फिर पता चला कि बाहर विरोध होने के कारण कोलकाता नाइट राइडर्स की पूरी टीम स्टेडियम में लेट पहुंची हैं। टीम के सुरक्षित स्टेेडियम में पहुंचने के बाद ही टॉस हुई।

Advertisements