जब इस शख्स की मंच सार्वजनिक तारीफ कर PM मोदी ने तोड़ा प्रोटोकॉल, जानिए कौन हैं ये..

Advertisements

मोतिहारीःप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार चंपारण सत्याग्रह शताब्दी समापन समारोह के दौरान प्रोटोकॉल तोड़ते हुए केंद्र सरकार में सचिव परमेश्वरजी अय्यर की सार्वजनिक रूप से प्रशंसा की।


अय्यर की सार्वजनिक तौर पर की तारीफ 
पीएम मोदी ने गांधी मैदान चम्पारण सत्याग्रह शताब्दी के समापन समारोह में सत्याग्रह से स्वच्छाग्रह अभियान के तहत देशभर से आए करीब 20 हजार और देश के अन्य हिस्सों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़े लाखों स्वच्छाग्रहियों को संबोधित करने के दौरान अय्यर की सार्वजनिक तौर पर तारीफ की। उन्होंने कहा कि कुछ देर पहले उन्हें कुछ स्वच्छाग्रही साथियों को सम्मानित करने का अवसर मिला है लेकिन एक व्यक्ति के सम्मान करने का अवसर उन्हें नहीं मिला। वह आज प्रशासनिक मर्यादाओं को तोड़कर उस बात का जिक्र करना चाहते हैं। सरकार में काम करने वाले अधिकारी अनाम होते हैं। उनकी पहचान नहीं हो पाती। वह परदे के सामने नहीं आ पाते।

इसे भी पढ़ें-  LPG Subsidy: रसोई गैस सब्सिडी में फिर बदलाव की तैयारी, जानिए अब कैसे मिलेगी राहत

अय्यर जैसे साथी के कारण विश्वास हो जाता है दृढ़ः पीएम मोदी 
प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार में सचिव परमेश्वरजी अय्यर स्वच्छाग्रह से जुड़े कार्यों को देख रहे हैं। वह भारतीय प्रशासनिक सेवा की नौकरी छोड़कर अमेरिका चले गए थे। वहां सुख-चैन की जिंदगी गुजार रहे थे लेकिन हमारी सरकार बनने के बाद मेरे आह्वान पर वह अमेरिका की शानदार जिंदगी छोड़कर भारत वापस लौट आए। उन्होंने अय्यर जी को सरकार में लिया और स्वच्छाग्रह का काम दिया। वह स्वयं जगह-जगह जाकर शौचालय की सफाई करते हैं। अगर परमेश्वरजी जैसे हजारों स्वच्छाग्रही उनके साथी बन जाएं यह विश्वास दृढ़ हो जाता है कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का सपना पूरा हो जाएगा।
Yashbharat
स्वच्छाग्रहियों को दी शुभकामनाएं 
मोदी ने सम्मानित किए गए स्वच्छाग्रहियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि स्वच्छता कार्य में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने वालों में महिलाओं की संख्या ज्यादा है। स्वच्छता का महत्व माताएं-बहनें भली-भांति जानती हैं। उन्होंने कहा कि हम पढ़ते-सुनते थे कि भगवान के हजार हाथ होते हैं लेकिन मैं नम्रतापूर्वक कहता हूं कि हजारों स्वच्छाग्रही बैठे हैं तो देश का प्रधानमंत्री भी हजारों बाहू वाला बन गया है।
Yashbharat
स्वच्छाग्रहियों को प्रमाणपत्र, स्मृति चिह्न देकर किया सम्मानित 
इस मौके पर प्रधानमंत्री ने बिहार के नालंदा जिले की रिंकू कुमारी, झारखंड में सिमडेगा के मोरिश जोरिया, अरुणाचल प्रदेश के तवांग की येशी बांग्मू, आंध्रप्रदेश में चित्तूर के ए रमेश, छत्तीसगढ़ के रायगढ़ की मोनिका इजारदार, राजस्थान में बंसवाड़ा के मणिलाल राणा, तमिलनाडु के डिंडिगुल की एस राजलक्ष्मी, तेलंगाना के राजन्ना सिरसिल्ला की जुपेल्ली नीराजा, उत्तर प्रदेश में बिजनौर के अतीक अहमद को शॉल, प्रमाणपत्र, स्मृति चिह्न और 51,000 रुपए देकर सम्मानित किया। 

Advertisements