कौन है बिश्नोई समाज, जिसने सलमान को पहुंचाया जेल

Advertisements

न्‍यूज डेस्‍क।  सुपरस्टार सलमान खान को गुरुवार को जोधपुर अदालत ने 1998 के काले हिरण केस के अंतर्गत दोषी करार दिया है. फिल्म हम साथ-साथ की शूटिंग के दौरान ये घटना हुई थी. घटना के समय मौजूद सलमान के सह-कलाकार सैफ अली खान, सोनाली बेन्द्रे, तब्बू और नीलम को कोर्ट ने बरी कर दिया. ये फैसला घटना के 20 साल बाद आया है.

आपको बता दें कि इस मामले में सलमान को कोर्ट तक पहुंचाने वाला राजस्थान का बिश्नोई समाज है. बिश्नोई समाज प्रकृति और जानवरों के प्रति अपनी गहन श्रद्धा के लिए जाना जाता है. प्रकृति प्रेमी और विष्णु-उपासक बिश्नोई समाज ने ही काले हिरण शिकार मामले में सलमान को कोर्ट तक पहुंचा दिया.

इसे भी पढ़ें-  शिबानी दांडेकर ने शेयर की फरहान अख्तर के साथ तस्वीर, लोग बोले- 'ये क्या पहन लिया'

बिश्नोई समाज की स्थापना 15वीं शताब्दी में गुरु जम्बेश्वर ने किया. हालांकि कुछ लोगों का कहना है कि बिश्नोई शब्द विष्णु से निकला है जो कि बिश्नोई समाज के मुख्य देवता माने जाते हैं. ये भी माना जाता कि बिश्नोई शब्द बीश यानी बीस और नोई यानि नौ से मिलकर बना है जो साथ में 29 बनता है. कहा जाता है कि बिश्नोई समाज के गुरु जम्बेश्वर ने 29 नियम बनाएं थे जिसका पालन करना हर बिश्नोई का धर्म  होता है.

बिश्नोई का 8वां नियम कहता है कि जैवविविधता और जानवरों की रक्षा करें.

19वां नियम कहता है कि पेड़ न काटें, पर्यावरण को बचाएं
22वां नियम कहता है कि जानवरों की रक्षा करें. बेसहारा जानवरों को सहारा दें ताकि उन पर कोई अत्याचार न कर सके.
28वें नियम के तहत मांस न खाएं और हमेशा शाकाहारी रहें,

इसे भी पढ़ें-  Bigg Boss OTT: शमिता शेट्टी के साथ रोमांस पर आया राकेश बापट की एक्स वाइफ का रिएक्शन, कहा- वो अगर...

यही वो सारे नियम है जिसके तहत बिश्नोई समाज जानवरों और प्रकृति के प्रति अपनी अटूट श्रद्धा रखता है. और इसीलिए बिश्नोई समाज ने सलमान को काले हिरण मामले में कोर्ट तक पहुंचाया.

इसके अलावा बिश्नोई समाज ने घटना से जुड़े दूसरे बरी कलाकारों, सैफ अली खान, तब्बू, नीलम और सोनाली बेन्द्रे के खिलाफ अपील करने का फैसला किया है.

Advertisements