ग्वालियर : कर्फ्यू में शाम तक छूट, लाइसेंसी हथियार जमा कराएगी पुलिस

Advertisements

ग्वालियर। दलित आंदोल में हिंसा झेलने के बाद ग्वालियर, भिंड और मुरैना में जीवन तेजी से सामान्य हो रहा है।ग्वालियर प्रशासन ने गुरूवार को सुबह 8 से शाम 6 बजे तक कर्फ्यू में ढील दी है। इससे लोगों ने काफी राहत महसूस की है। इधर उपद्रव करने वाले आरोपियों की धरपकड़ जारी है।

जानकारी के मुताबिक ग्वालियर में हालात तेजी से सामान्य हो रहे हैं। जिले की स्थिति देखते हुए प्रशासन ने कर्फ्यू में सभी लोगों के लिए सुबह 8 से शाम 6 बजे तक ढील दी गई है। इस दौरान बाजारों में सामान्य स्थिति देखी जा रही है। सब्जी मार्केट, दूध की दुकानों, किराना दुकानों पर खासी भीड़ देखी जा रही है। लोग रोजमर्रा की चीजें खरीद रहे हैं। अच्छी बात ये है कि कर्फ्यू में ढील में दौरान कहीं भी कोई घटना नहीं हुई है।

इसे भी पढ़ें-  MP Teachers News: चयनित शिक्षकों की नियुक्ति के लिए हलचल तेज

इधर पुलिस प्रशासन शहर में हर गतिविधि पर चौकसी बरत रही है। प्रशासन सोशल मीडिया पर विशेष नजर रख रहा है। वायरल हो रहे मैसेज पर चौकसी बरती जा रही है। 10 अप्रैल को आंदोलन के मैसेज वायरल होने के बाद प्रशासन ज्यादा सतर्क हो गया है। इसकी सच्चाई पता लगाई जा रही है।

लाइसेंसी हथियार होंगे जमा

भिंड। इधर भिंड में भी कर्फ्यू में छूट दी गई है। प्रशासन ने स्थिति देखते हुए सुबह 10 से 4 बजे तक छूट की घोषणा की है। छूट मिलने पर लोग खरीदारी के लिए सड़कों पर निकल रहे है। तीन दिन के बाद बाजार भी खुल गए हैं। गोहद, मछंड, महगांव, लहार में भी सामान्य स्थिति है। हालांकि यहां हिंसा का काफी जोर देखा गया था लेकिन पुलिस और प्रशासन की सख्ती के चलते हालात जल्द ही काबू में आ गए। प्रशासन ने हथियार के लाइसेंस सस्पेंड कर दिए हैं, ऐसे में सभी लोगों से हथियार जमा कराए जा रहे हैं। प्रशासन ने हालांकि एहतियात बरतते हुए इंटरनेट बंद ही रखने का फैसला किया है।

इसे भी पढ़ें-  Lokayukta Raid: लोकायुक्‍त टीम ने पंचायत समन्वयक अधिकारी ओमप्रकाश राठौर को रिश्‍वत लेते पकड़ा

आरोपी पर 10 हजार का इनाम

मुरैना। मुरैना में भी हालात सामान्य हैं। यहां भी प्रशासन ने सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक कर्फ्यू में छूट दी है। यहां इंटरनेट अभी भी बंद है। पुलिस ने हिंसा के मामले में अभी तक 111 लोगों को गिरफ्तार किया है। राइफल लेकर वीडियो में नजर आया अशोक टैगोर अब भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। पुलिस ने उस पर 10 हजार का इनाम घोषित किया। गौरतलब है कि अशोक टैगोर राइफल से फायरिंग करता नजर आया था। पुलिस ने इसके अलावा पूर्व नपा अध्यक्ष राजेश कथूरिया का भाई रवींद्र कथूरिया को भी हिरासत में लिया है।

इसे भी पढ़ें-  MP Teachers News: चयनित शिक्षकों की नियुक्ति के लिए हलचल तेज

इधर आंदोलन में हथियारों के उपयोग के बाद प्रशासन ने 15 मई तक हथियारों के लाइसेंस सस्पेंड कर दिए हैं। पुलिस और प्रशासन ये लाइसेंसी हथियार जमा करा रही है।

Advertisements