1 जून से वर्चुअल आईडी अनिवार्य, जानें कैसे करें यूज और डाउनलोड

Advertisements

नई दिल्ली। जो लोग अक्सर बैंक व अन्य जगहों पर अपना आधार नंबर देने से कतराते हैं उनके लिए भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने वर्चुअल आईडी का बीटा वर्जन जारी कर दिया है। इसके बाद अब आम लोगों को हर जगह अपना आधार नंबर नहीं देना होगा और उसकी जगह वर्चुअल आईडी (वीआईडी) देकर काम पूरा कर सकते हैं।

प्राधिकरण पहले ही कह चुका है कि सत्यापन के उद्देश्य से सेवा प्रदाताओं के लिए एक जून, 2018 से आधार नंबर के स्थान पर 16 अंकों वाली वर्चुअल आईडी को स्वीकार करना अनिवार्य होगा। साफ है कि अब कई सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए आधार नंबर नहीं देना होगा। सरल शब्दों में कहें तो इस नए फीचर से आधार धारक को प्रमाणीकरण और सत्यापन के लिए 12 अंकों का अपना आधार नंबर बताने के बजाय सिर्फ 16 अंकों का वर्चुअल आईडी (वीआईडी) नंबर ही बताना होगा। यूआईडीएआई के मुताबिक, यूजर अपनी वीआईडी खुद ही जनरेट कर सकेंगे।

इसे भी पढ़ें-  Covid-19 Vaccination: केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, डोर-टू-डोर वैक्सीनेशन की अनुमति; नई गाइडलाइंस जारी

क्या है वीआईडी

वर्चुअल आईडी दरअसल एक 16 अंको का कोड होगा जो आधार नंबर की जगह उपयोग किया जा सकेगा। इसके चलते सुविधाओं का लाभ लेने के लिए 12 अंकों वाला आधार नंबर देना अनिवार्य नहीं होगा। इसके बदले लोग वर्चुअल आईडी का इस्तेमाल कर सकेंगे। इससे लोगों की पहचान सुरक्षित रहेगी।

वर्चुअल आईडी हर जगह आधार नंबर देने की मजबूरी खत्म कर देगी। इससे आधार के विवरण मसलन नाम, उम्र, पता आदि भी सुरक्षित रखे जा सकेंगे। आधार वर्चुअल आईडी एक तरह का अस्थाई नंबर है। इसमें कुछ ही विवरण होंगे। अगर किसी को कहीं अपने आधार का विवरण देना है तो वह आधार की जगह वीआईडी नंबर दे सकता है।

ऐसे ले सकेंगे वीआईडी

इसे भी पढ़ें-  Bangalore पटाखा गोदाम में धमाका, 2 लोगों की मौत, बढ़ सकती है घायलों की संख्या

यह एक डिजिटल आईडी होगी। इसे सिर्फ यूआईडीएआई के पोर्टल से ही जनरेट किया जा सकता है। यह एक दिन के लिए मान्य होगा। यानी इसे जरूरत पड़ने पर रोजाना हासिल करना होगा।

ऐसे जनरेट करें

  • इसके लिए यूआईडीएआई के होमपेज पर जाएं।

  • अपना आधार नंबर डालें। इसके बाद सिक्योरिटी कोड डालें और सेंड ओटीपी पर क्लिक कर दें।

  • रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ओटीपी मिल जाएगा।

  • ओटीपी डालने के बाद आपको नई वीआईडी जनरेट करने का विकल्प मिल जाएगा।

  • जब यह जनरेट हो जाएगी तो आपके मोबाइल पर आपकी वर्चुअल आईडी भेज दी जाएगी। यानी 16 अंकों का नंबर आ जाएगा।

  • यह वर्चुअल आईडी अनगिनत बार जनरेट किया जा सकेगा और नया आईडी जनरेट होते ही पुराना बेकार हो जाएगा।

  • इसकी खास बात यह रहेगी कि वर्चुअल आइडी की नकल नहीं की जा सकेगी।

वीआईडी से क्या होगा

  • यह आपको सत्यापन के समय आधार नंबर को साझा नहीं करने का विकल्प देगी।

  • वर्चुअल आईडी से नाम, पता और फोटोग्राफ जैसी कई चीजों का सत्यापन हो सकेगा।

  • कोई यूजर जितनी चाहे, उतनी वर्चुअल आईडी जनरेट कर सकेगा।

  • पुरानी आईडी अपने आप निरस्त हो जाएगी।

  • अधिकृत एजेंसियों को आधार कार्ड धारक की ओर से वर्चुअल आईडी जनरेट करने की अनुमति नहीं होगी।

इसे भी पढ़ें-  Delhi Rohini Court Gangwar : बदमाशों ने कोर्ट रूम में गैंगस्टर को मारी गोली, पुलिस कार्रवाई में दोनों ढेर, Video

देश में 119 करोड़ आधार कार्ड

यूआईडीएआइ ने कहा है कि हाल के दिनों में आधार की निजता को लेकर कई सवाल उठे हैं। इसे ध्यान में रखते हुए आधार को और मजबूत करने के लिए नई प्रक्रियाएं शुरू की गई हैं। उल्लेखनीय है कि अब तक देश में 119 करोड़ आधार कार्ड बनाए जा चुके हैं। बैंक, टेलीकॉम, सार्वजनिक वितरण और आयकर जैसे विभागों में इसका उपयोग किया जा रहा है।

Advertisements