मीडिया रिपोर्ट्स: “प्यार, घूस और शायरी” पास होने के लिए क्या कुछ नहीं करते UP बोर्ड के छात्र

Advertisements

लखनऊ। कोई भी छात्र किसी भी कीमत पर बोर्ड की परीक्षाओं में फेल नहीं होना चाहता है. किसी भी हालत में पास होने के चक्कर में पेपर लीक का खेल चलता है. इसी के चलते सीबीएसई के दसवीं गणित और 12वीं अर्थशास्त्र के पेपर लीक हो गए और सीबीएसई व एचआरडी मंत्रालय को भारी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा.

हालांकि, उत्तर प्रदेश में, छात्रों ने बोर्ड जैसी महत्वपूर्ण परीक्षा पास करने का नया तरीका निकाला है. योगी आदित्यनाथ सरकार ने इस साल नकल को रोकने के लिए कड़े नियम लागू किये जिसके बाद परीक्षा के पहले ही दिन 1 लाख 80 हज़ार विद्यार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी. हालांकि कुछ विद्यार्थी परीक्षा देने के लिए आए जरूर लेकिन उन्हें उत्तर पता नहीं थे. इसके बाद उन्होंने जो किया उससे परीक्षक दंग रह गए.

आउटलुक इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार फिरोजाबाद जिले में 12वीं बोर्ड की कापियों को जांचने के दौरान 500 रुपये, 100 रुपये, और 50 रुपये के नोट मिले. विद्यार्थियों ने परीक्षक को पैसे दिए थे ताकि उन्हें परीक्षक इतने अंक दे दें जिससे वो पास हो जाएं. लेकिन परीक्षकों ने इन पैसों को नहीं लिया.

आउटलुक इंडिया के अनुसार एक परीक्षक ने कहा कि जिन विद्यार्थियों का पेपर अच्छा नहीं जाता वो लोग कॉपी में पैसे रख देते हैं लेकिन हम लोग केवल मेरिट के आधार पर नंबर देते हैं. हम में से कोई भी इस पैसे को नहीं लेता.

टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार मुज़फ्फरपुर ज़िले के इंस्पेक्टर ऑफ स्कूल ने बताया कि कॉपियों में पैसे के साथ-साथ कुछ बहुत ही अजीब से मैसेज भी लिखे होते हैं. एक विद्यार्थी ने लिखा था  “गुरु जी कॉपी खोलने से पहले नमस्कार. गुरु जी पास कर दें. चिट्ठी तू जा सर के पास, सर की मर्जी फेल करें या पास.”

इसके अलावा स्टूडेंट रोमांस, गरीबी, पारिवारिक समस्या व मेडिकल इमरजेंसी जैसी बातें भी लिखते हैं. एक स्टूडेंट ने लिखा था कि सर मेरी शादी तय हो गई है और जून में शादी है. चूंकि शादी के पहले ही रिज़ल्ट आ जाएगा इसलिए मैं आपसे निवेदन करती हूं कि आप मुझे पास कर दें. अगर मैं फेल हो गई तो मेरे ससुराल वाले इस शादी को तोड़ देंगे.
Advertisements