भारत बंद के दौरान दिखी गांधीगिरी, गुलाब का फूल देकर मांगा समर्थन

Advertisements
 

बंद समर्थकों ने जबरन दुकान बंद करने के बजाए दुकानदारों को गुलाब का फूल दिए

भोपाल। एससी-एसटी अधिनियम को कमजोर करने को लेकर आपत्ति जताते हुए कुछ अनुसूचित जाति संगठनों के विरोध प्रदर्शन के आह्वान के मद्देनजर भारत बंद के दौरान मध्य प्रदेश के बुरहानपुर में बिलकुल ही अलग नजारा देखने को मिला.

दरअसल, बुरहानपुर में एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में आदिवासी दलित संगठनों ने बंद का आह्वान किया था. प्रदेश के दूसरे जिलों में बंद के दौरान हिंसक प्रदर्शन से बिलकुल अलग नजारा बुरहानपुर में देखने को मिला.

दलित संगठनों ने बंद को सफल बनाने के लिए गांधीगिरी का सहारा लिया. बंद समर्थकों ने जबरन दुकान बंद करने के बजाए दुकानदारों को गुलाब का फूल दिए. इस दौरान दलित संगठन के कार्यकर्ता दुकानदारों से कारोबार एक दिन बंद रखने का गुजारिश करते हुए दिखे.


ग्वालियर शहर में एससी एसटी एक्ट में बदलाव के विरोध में बंद के दौरान जमकर हिंसा हुई. प्रदर्शनकारियों ने यहां पेट्रोल पंप और दुकानों में तोड़फोड़ के अलावा कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया.

इसे भी पढ़ें-  PM Modi US Visit : अमेरिका ने भारत को लौटाईं 157 पुरानी कलाकृतियां, चोरी-तस्करी के जरिए पहुंची थी अमेरिका

ग्वालियर में उपद्रवियों ने मुरार और गोले का मंदिर इलाके में स्कूल बस सहित करीब आधा दर्जन वाहनों को आग के हवाले कर दिया. इसके बाद दोनों इलाकों में हिंसा के बाद दहशत का माहौल है.

Advertisements