इंदौर हादसा : 80 साल की दादी पर एक साल के पोते की जिम्मेदारी

Advertisements

इंदौर। सरवटे बस स्टैंड पर शनिवार रात चार मंजिला होटल ढहने से मृत दस लोगों में से सात की शिनाख्त हो गई है। होटल एमएस नामक यह 50 साल पुरानी इमारत बस स्टैंड के ठीक सामने चौराहे पर बनी थी। दो पुरुष व एक महिला का शव अज्ञात है। शहर के इतिहास का यह सबसे भयावह हादसा शनिवार रात 9 बजकर 14 मिनट पर हुआ। प्रशासनिक अफसरों ने हादसे का कारण एक कार का इमारत के पिलर के टकराने से होना बताया है।

80 year old women 02 04 2018

हादसे में मरने वालों में हरीश पिता गणेशप्रसाद सोनी (65) निवासी स्कीम 71, आनंद पिता बसंतीलाल पौडवाल (27) निवासी जवाहर मार्ग (नागदा), राजू उर्फ पप्पू पिता रतनलाल सेन (40) निवासी रुस्तम का बगीचा, राकेश पिता मांगीलाल राठौर (26) निवासी नंदबाग कॉलोनी (बाणगंगा), शंकर पिता संतोष दुबे (25) निवासी चंद्रविहार कॉलोनी उमरिया (किशनगंज), सत्यनारायण पिता रामानंद चौहान (60) निवासी लुनियापुरा व सिमरन दीवान (23) निवासी बुरहानपुर हैं। घायल महेश व धर्मेंद्र का अस्पताल में इलाज चल रहा है।

इसे भी पढ़ें-  Lokayukta Raid: लोकायुक्‍त टीम ने पंचायत समन्वयक अधिकारी ओमप्रकाश राठौर को रिश्‍वत लेते पकड़ा

हादसे में मृत राजू के परिजन ने बताया राजू ने राजस्थान की शिवानी से प्रेम विवाह किया था। उनका एक साल का बेटा शिवाय है। एक माह पहले ही आपसी कहासुनी के बाद शिवानी बेटे को घर छोड़कर कहीं चली गई। उसे अब उनकी 80 साल की मां खुम्नीबाई है, जिन पर पोते की जिम्मेदारी है।

Advertisements