आंदोलन करें या बात करें, दोनों चीज एक साथ नहीं हो सकती-शिवराज

Advertisements

शहडोल। राज्य स्तरीय बैगा सम्मेलन सह विकास यात्रा में शामिल होने आए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को एसईसीएल सोहागपुर के रेस्ट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में माना कि संविदा शोषण की व्यवस्था है। उन्होंने कहा कि शोषण की यह व्यवस्था समाप्त होनी चाहिए। इसलिए उनके कल्याण के लिए मैं उनको बुलाऊंगा लेकिन एक चीज मेरी मैंने हमेशा कही है, अध्यापकों का हो गया, पंचायत सचिवों का हो गया, आंगनबाड़ी की बहनों को 8 तारीख को बुला रहा हूं। जो आंदोलन नहीं कर रहा उसको मैं बुला रहा हूं। आंदोलन करें या बात करें, दोनों चीज एक साथ नहीं हो सकती। मैंने कहा है कि आंदोलन खत्म करके आ जाएं, हम बात कर लेंगे। उन्होंने कहा कि जो संविदा कर्मचारी आंदोलन कर रहे हैं और अपनी मांग भी रख रहे हैं, सरकार उनकी नहीं सुनेगी।

इसे भी पढ़ें-  Lokayukta Raid: लोकायुक्‍त टीम ने पंचायत समन्वयक अधिकारी ओमप्रकाश राठौर को रिश्‍वत लेते पकड़ा

दुईजी बैगा हमारी प्रेरणा

देवगवां की दुईजी बैगा के संदर्भ में किए सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि वो हमारी प्रेरणा है। मैं उनसे मिलूंगा और बातचीत करूंगा। सीएम ने कहा कि जहां तक पढ़ाई का सवाल है तो बैगा सम्मेलन में हमने पूरी बात रखी है। बैगाओं में अशिक्षा अभी भी काफी है। इसके लिए नि:शुल्क पढ़ाई एकलव्य स्कूल जैसी व्यवस्था की जा रही है। दुईजी बैगा तीन दिन मजदूरी करती हैं और तीन दिन कॉलेज में पढ़ने जाती हैं। हफ्ते में एक दिन मुख्यमंत्री की कौशल विकास क्षमता की कक्षा में भी जाती हैं।

ढोलक की थाप पर बैगाओं के साथ नाचे मुख्यमंत्री

इसे भी पढ़ें-  अब एक और सरकारी बैंक ने सस्‍ता किया Home Loan, त्‍योहारी सीजन का तोहफा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भी शामिल हुए। बैगाओं के साथ ढोलक बजाई और खुद भी नृत्य किया। बैगा सामूहिक नृत्य के साथ कलाकारों के बीच मुख्यमंत्री उतरे और कदम से कदम मिलाकर आदिवासी नृत्य किया। मुख्यमंत्री की पत्नी साना सिंह भी मौजूद रहीं। डिंडौरी जिले के समनापुर के सुफल सिंह ुर्वे की टीम के बीच मुख्यमंत्री आ गए और ढोलक बजाकर नृत्य किया।

Advertisements