एमपी में कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, 60 के बजाए 62 साल होगी रिटायरमेंट उम्र

Advertisements

भोपाल। राज्य में पिछले कई सालों से सीधी भर्ती पर रोक लगी है. अधिकारियों और कर्मचारियों के तेजी से रिटायरमेंट हो रहे हैं. ऐसे में कई विभागों मे कर्मचारियों की भारी कमी हो गई है.

 मध्य प्रदेश में चुनावी साल में कर्मचारियों को खुश करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एलान किया है. सीएम शिवराज सिंह ने कहा है कि राज्य में कर्मचारियों के रिटायरमेंट की उम्र 60 की जगह 62 साल हो गई है.
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में संवाददाताओं से बातचीत के दौरान कहा है कि प्रदेश के कर्मचारियों की रिटायरमेंट की उम्र बढ़ा दी गई है. सीएम शिवराज ने कर्मचारियों की रिटायरमेंट की उम्र 60 से बढ़ाकर 62 साल करने का एलान किया.बता दें, शिवराज सरकार चुनावी साल में कर्मचारियों को सौगातें देने में कसर नहीं छोड़ रही है. अध्यापकों और पंचायत सचिवों को सौगात देने के बाद अब सरकार अधिकारियों और कर्मचारियों के रिटायरमेंट की उम्र 60 से बढ़ाकर 62 साल करने जा रही है.

इसे भी पढ़ें-  Lokayukta Raid : लोकायुक्त को देखते ही रिश्वत की रकम ठेले पर रखकर भागा कर्मचारी

कर्मचारी संगठन पिछले कई सालों से ये मांग करते आ रहे हैं. ज्यादातर संगठनों ने इस मांग को लेकर समय-समय पर आंदोलन भी किए हैं. चुनावी साल में कर्मचारी संगठनों ने दबाव बनाया तो सरकार ने तुरंत फैसला लेते हुए रिटायरमेंट की आयु को दो साल बढ़ाने का एलान कर दिया.
चुनावी साल में कर्मचारियों को सौगात !
– 60 से 62 साल रिटायरमेंट की उम्र
– 40 फीसदी कर्मचारियों को होगा फायदा
– एमपी में डॉक्टर्स की रिटायरमेंट की उम्र 65 साल
– नर्सेस की रिटायरमेंट की उम्र 62 साल
– चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की रिटायरमेंट की उम्र 62 साल
– शिक्षकों की रिटायरमेंट की उम्र 62 साल

इसे भी पढ़ें-  MPBSE Exam Pattern: एमपी बोर्ड ने 10वीं और 12वीं के परीक्षा पैटर्न में किया बड़ा बदलाव, जानें पूरी खबर

दरअसल, राज्य में पिछले कई सालों से सीधी भर्ती पर रोक लगी है. अधिकारियों और कर्मचारियों के तेजी से रिटायरमेंट हो रहे हैं. संविदा नियुक्ति देने में अड़चनें आ रही हैं. बड़े पदों पर ही सरकार ये काम कर पा रही है. ऐसे में कई विभागों मे कर्मचारियों की भारी कमी हो गई है.

Advertisements