Advertisements

प्राचीन है कटनी के छपरवाह में चैत्र नवरात्र पर जवारा स्थापना की परंपरा

कटनी। शहर व ग्रामीण क्षेत्रों के साथ ही उपनगरीय क्षेत्र छपरवाह में चैत्र नवरात्र की धूम है। यहां स्थित खेर माई मढिय़ा की नवरात्र पर्व पर आकर्षक साज सज्जा करने के साथ ही क्षेत्रवासी माता की भक्ति में लीन हैं। मढिय़ा में सुबह से महिलाओं के जल चढ़ाने का सिलसिला शुरू होकर दोपहर तक चलता रहता है।

छपरवाह में चैत्र नवरात्र पर जवारा जुलुश की परंपरा काफी पुरानी है।

इसके पश्चात नवरात्र पर्व पर रोजशाम को देवी भगतों का आयोजन किया जाता है, जो देररात तक चलता रहता है। यहां का जवारा विसर्जन जुलूस आगामी 26 मार्च सोमवार को राम नवमीं के पावन पर्व पर निकाला जायेगा। जवारा विसर्जन जुलूस ग्राम के प्रमुख मार्गो से होकर हनुमान मंदिर में आकर समाप्त होगा। जवारा विसर्जन समिति के बलराम पयासी के अनुसार प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी वासंतेय नवरात्र पर्व की बैठकी को मढिय़ा में जवारा कलशों की स्थापना के साथ यहां धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन प्रारंभ किया गया। जिनका समापन आगामी 26 मार्च को रामनवमीं के पावन पर्व पर कन्या भोज के पश्चात विशाल जवारा विर्सजन जुलूस से होगा।

श्री मिश्रा के अनुसार जवारा विर्सजन जुलूस मढिय़ा प्रांगण से शाम 6 बजे प्रारंभ होगा जो ग्राम के प्रमुख मार्गो से होता हुआ देररात सिमरौल नदी के हनुमान घाट में जवा विसर्जन के बाद समाप्त होगा। छपरवाह जवारा विसर्जन समिति के बलराम पयासी, रमेश शुक्ला, कैलाश शुक्ला, महेश शुक्ला, पत्रकार विवेक शुक्ला, पार्षद दिनेश पयासी , पूर्व पार्षद वीरेन्द्र मिश्रा, रवीन्द्र शुक्ला, शिवमूरत शुक्ला, शैलेष शुक्ला, सुधीर शुक्ला, रामकुमार मिश्रा, कौशल पयासी, संजय शुक्ला, रजनीश शुक्ला, कृपाशंकर शुक्ला, डॉ. संजय शुक्ला, राजकुमार शुक्ला, सत्येन्द्र शुक्ला, संदीप शुक्ला(बंटी), प्रशांत शुक्ला (कोका), कमलेश यादव, राजेश यादव, सुरेश विश्वकर्मा, टिल्लू उर्फ बसंत विश्वकर्मा, रमन विश्वकर्मा, उमेश विश्वकर्मा, लुकईराम विश्वकर्मा, चिल्लू बर्मन, अनिल बर्मन, घुर्री बर्मन, मथुरा बर्मन, राममिलन चौधरी, घसीटा चौधरी, संतोष चौधरी, सहित समिति के अन्य पदाधिकारियों व सदस्यों ने नगर निगम प्रशासन से मढिय़ा तथा जवारा जुलूस मार्ग सहित सिमरौल नदी के चक्की घाट स्थित विसर्जन घाट पर साफ-सफाई व प्रकाश व्यवस्था कराने की मांग की है।

Loading...