TDP और YSR के बाद अब कांग्रेस लाएगी मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव

Advertisements

नई दिल्ली। केंद्र में भारतीय जनता पार्टी (BJP) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) सरकार की मुश्किलें आने वाले दिनों में बढ़ने वाली हैं. मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने एनडीए सरकार के खिलाफ संसद में अविश्वास प्रस्ताव लाने का ऐलान किया है. एनडीए सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव 27 मार्च को लाया जाएगा.

लोकसभा में विपक्ष नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने इस संबंध में लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन को एक चिट्ठी लिखी है. बता दें कि लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए स्पीकर के नोटिफिकेशन की जरूरत होती है.

News18 के पास मल्लिकार्जुन खड़गे की चिट्ठी की एक कॉपी भी है, जिसमें खड़गे ने विपक्ष के सभी दलों से अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करने की अपील की है.

लोकसभा में विपक्ष नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने स्पीकर को चिट्ठी लिखी है

संसद में क्या है कांग्रेस की पोजिशन?

कांग्रेस के 48 सांसद हैं. इस तरह सरकार के खिलाफ प्रस्ताव लाने के लिए जरूरी 50 सांसदों का आंकड़ा आराम से जुट जाएगा. इसके साथ ही लेफ्ट फ्रंट, आप और बाकी विपक्षी दल भी सरकार के खिलाफ लामबंद हो चुके हैं. इस तरह सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने में कोई मुश्किल नहीं होने वाली.

इसे भी पढ़ें-  MPBSE Exam Pattern: एमपी बोर्ड ने 10वीं और 12वीं के परीक्षा पैटर्न में किया बड़ा बदलाव, जानें पूरी खबर

टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस पहले ही कर चुकी कोशिश
बता दें कि इससे पहले आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू की तेलुगू देशम पार्टी (TDP) और उनके धुर विरोधी जगन मोहन रेड्डी की वाईएसआर कांग्रेस भी एनडीए सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का ऐलान किया था.

टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस ने एनडीए सरकार के खिलाफ सोमवार को लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव लाने की कोशिश की थी. लेकिन, हंगामे के बाद स्पीकर सुमित्रा महाजन द्वारा सदन की कार्यवाही स्थगित कर देने से दोनों पार्टियों की कोशिश असफल रही. हंगामे के कारण राज्यसभा में भी कोई कामकाज नहीं हो पाया और सदन स्थगित करनी पड़ी.

सोमवार को जहां राज्यसभा की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित रही, वहीं लोकसभा पहले दोपहर तक स्थगित रही. बाद में कुछ देर कार्यवाही शुरू होने के बाद विपक्ष ने फिर से हंगामा किया. जिसके बाद लोकसभा भी पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई.

टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस का अविश्वास प्रस्ताव लाने के नोटिस की वैधता एक दिन के लिए थी. ऐसे में एनडीए सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की दोनों पार्टियों की कोशिश नाकाम हो गई. एनडीए सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए अब टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस को दोबारा नोटिफिकेशन फाइल करनी पड़ेगी.

इन नेताओं ने रखा था अविश्वास प्रस्ताव
टीडीपी की तरफ से थोटा नरसिम्हाम, जयदेव गल्ला और वाईएसआर कांग्रेस की ओर से वाईवी सुब्बा रेड्डी ने एनडीए सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का नोटिफिकेशन दिया था. दोनों ही पार्टियों ने केंद्र से आंध्र के लिए स्पेशल पैकेज की मांग की है.

इसे भी पढ़ें-  Corona vaccination: बुजुर्गों और दिव्यांगों के आने-जाने की व्यवस्था सरकार करेगी: मुख्यमंत्री

यही नहीं, एनडीए से नाराज आंध्र के सीएम और टीडीपी अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू ने अपने दोनों मंत्रियों को मोदी कैबिनेट से वापस भी बुला लिया था. नायडू ने टीडीपी सांसदों और वरिष्ठ नेताओं से दूसरी पार्टियों के नेताओं से अपील करने के लिए कहा था कि वो एनडीए सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करें।

Advertisements