Advertisements

प्रीति के पिता बोले पुलिस ने कुछ पीने के लिए दिया और तबीयत बिगड़ गई

भोपाल। प्रीति रघुवंशी खुदकुशी मामले में गुरुवार को महिला थाने में देर रात तक गहमागहमी रही। रायसेन पुलिस प्रीति के परिजनों के बयान दर्ज करने आई है। रात करीब 11:30 बजे प्रीति के पिता चंदनसिंह की तबीयत अचानक बिगड़ गई। उन्हें एम्बुलेंस से जेपी अस्पताल ले जाया गया। इससे पहले गुरुवार को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह को साथ लेकर चंदनसिंह परिवार के साथ डीजीपी से मिले।

पुलिस कार्रवाई पर सवाल उठाने पर डीजीपी ने चंदनसिंह से उनके बयान राजधानी के महिला थाना में दर्ज कराने को कहा था। बयान दर्ज करने के लिए रायसेन से एएसपी किरण केरकट्टा, एसडीओपी राजाराम साहू महिला थाने पहुंच गए थे। रात 8:30 बजे प्रीति के परिवार वाले थाने पहुंच गए थे। इनमें उसके माता-पिता के अलावा चाचा-चाची और दो भाई सौरभ और नीरज भी थे। हालांकि देर रात तक किसी के बयान दर्ज नहीं कराए जा सके थे।

एफआईआर दर्ज कराके मानूंगा

तबीयत बिगड़ने के बाद जेपी अस्पताल में भर्ती चंदन सिंह ने कहा की पुलिस ने ढाई घंटे तक मुझसे इधर-उधर की बातें की लेकिन बयान दर्ज नहीं किए। थाने में पुलिस ने कुछ पीने को दिया उसके बाद तबीयत बिगड़ गई। लेकिन में एफआईआर करा कर ही मानूंगा।

एफआईआर के लिए कांग्रेस पहुंची राज्यपाल के द्वार

मंत्री रामपाल सिंह की पुत्रवधु प्रीति रघुवंशी की आत्महत्या के मुद्दे पर गुरुवार को सियासत चलती रही। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव एवं नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह के साथ कांग्रेस विधायकों ने रोशनपुरा चौराहे पर मौन उपवास किया तो राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को सौंपे ज्ञापन में मंत्री रामपाल और उनके परिजनों पर एफआईआर दर्ज कर मंत्री पद से हटाने की मांग की है। वहीं, प्रीति के माता-पिता ने पुलिस महानिदेशक से सुरक्षा भी मांगी है।

कांग्रेस विधायक दल द्वारा मौन उपवास का एलान किया गया था। सुबह साढ़े 11 से दोपहर 3 बजे तक प्रदेश अध्यक्ष एवं नेता प्रतिपक्ष सहित करीब 32 विधायकों ने धरना दिया। कांग्रेस नेता पैदल मार्च करते हुए राजभवन पहुंचे और राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा और रामपाल और बेटे गिरजेश के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की गई। इधर प्रीति के पिता चंदन सिंह रघुवंशी ने सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया से मामले को लोकसभा में उठाने और इंसाफ दिलाने की मांग की है। सिंधिया 30 को प्रीति के परिजनों से मिलने उदयपुरा जाएंगे।

प्रीति-गिरजेश की प्रेम कहानी से गायब हुए दोनों के दोस्त रामपाल के बेटे गिरजेश व प्रीति की कहानी से उसके दोस्त एकदम से गायब हो गए हैं। प्रीति-गिरजेश के प्रेम प्रसंग के यूं तो कई साक्षी है लेकिन इस घटनाक्रम के बाद से कोई भी सामने नहीं आया है। सूत्रों के अनुसार गिरजेश के कुछ दोस्त और प्रीति की कुछ सहेलियों को मामले की लंबे समय से जानकारी थी लेकिन मामला हाईप्रोफाइल होने से परिजनों ने भी सामने आने से मना कर दिया है।

विस में विधायकों की आपत्ति पर कुछ नहीं हुआ : रावत

प्रीति रघुवंशी आत्महत्या मामले पर राज्य के विधायक विधानसभा में आपत्ति ले चुके हैं। तब भी कुछ नहीं हुआ। हमारे पास तो विधायकों से भी कम अधिकार हैं। ऐसे में हम कुछ नहीं कर सकते। यह बात राष्ट्रीय महिला अधिकार आयोग के सदस्य आलोक रावत ने कही। वे कलेक्टर कार्यालय में आयोजित महिला प्रताड़ना से जुड़े मामलों की सुनवाई करने आए थे। बैंच ने 13 प्रकरणों की सुनवाई की। स्वत: संज्ञान लेने की बात पर रावत ने कहा कि अध्यक्ष के अपने अधिकार हैं वे स्वत: संज्ञान लेंगे या नहीं, उन पर ही निर्भर करता है। मैं ज्ञापन अध्यक्ष तक पहुंचा दूंगा।

Loading...