9 वर्ष बाद हनुमान जयंती पर ऐसा संयोग, सभी संकटों का करेगा नाश

धर्म डेस्क। संकटमोचन संकट हरण पवनपुत्र हनुमान जी की जयंती वर्ष 2018 में 31 मार्च को पड़ रही है। अधिकतर ये शुभ दिन अप्रैल महीने में आता है। ऐसा संयोग आज से 9 साल पहले यानि वर्ष 2008 में भी आया था। जब हनुमान जयंती 31 मार्च को मनाई गई थी। शुभ मूहूर्त में बजरंगबली का पूजन करने से आपके जीवन में आ रहे सभी संकटों का नाश हो जाएगा। संसार की कोई भी ऐसी पीड़ा नहीं है, जिसका समाधान हनुमान आराधना से संभव न हो।

चैत्र मास की पूर्णिमा को हनुमान जयंती मनाए जाने का विधान है। कुछ स्थानों पर कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष के चौदहवें दिन भी इसे मनाया जाता है। 30 मार्च को 19.36.38 से पूर्णिमा आरंभ हो जाएगी। 31 मार्च को 18.08.29 पर पूर्णिमा तिथि का समापन होगा।

इस दिन हनुमान जी का पूजन करने से पहले लाल रंग के कपड़े पहनें। हनुमान जी के चित्रपट अथवा स्वरूप को भी लाल रंग के आसन पर विराजित करें। पूर्व या उत्तर दिशा पूजन करने हेतू सर्वश्रेष्ठ है। हनुमान जी के मस्तक पर सिंदूर का टीका लगा कर लाल फूल चढ़ाएं। धूप और दीपक जला कर बुंदी के लड्डू अर्पित करें। जीवन के सभी कष्टों और संकटों से मुक्ति देंगे ये मंत्र और चौपाई

गंभीर से गंभीर रोग पर विजय पाता है ये मंत्र- ॐ लक्ष्मणप्राणदात्रे नमः

कोर्ट कचहरी और मुकद्दमे से निपटने के लिए- ॐ नमो हनुमते भयभन्जनाय सुखम कुरु फट स्वाहा

अमंगल को टालने के लिए- मंगल मूरति मारुति नंदन , सकल अमंगल मूल निकंदन

मानहानि और तिरस्कार से बचाएगा- ॐ लंकिनीभन्जनाय नमः

Hide Related Posts