आशीष ने अरुणोदय के जरिये मातृ-पितृऋण अदा करने का स्तुत्य कार्य किया

Advertisements

जबलपुर। पितृ ऋण वह ऋण है जिसे चुकाना हर बेटे का कर्तव्य है। प्रत्येक माता पिता यह चाहता है कि उसका बेटा नाम रोशन करे। पिता की छांव में बेटे के कठिन से कठिन कार्य आसान होते हैं किंतु पिता का साया सिर से उठ जाए तो जीवन मे अंधकारनुमा पहाड़ सा दिखता है।

माता पिता की न सिर्फ अंतिम इक्षा वरन उनकी अनुपस्थिति में भी उनके नाम को लोगों की जुबां पर लाने का जो स्तुत्य कार्य आशीष शुक्ला ने किया वह वन्दनीय अभिनंदनीय है। वास्तव में यह पितृ ऋण अदा करने का स्तुत्य कार्य है।

यह विचार आज पँडित अरुण शुक्ला स्मृति पत्रकारिता पुरूस्कार कार्यक्रम में आशीर्वचन देते रानी दुर्गावती विवि के कुलपति प्रो कपिल देव मिश्रा ने व्यक्त किये।

इसके पूर्व स्वास्थ राज्यमन्त्री शरद जैन, जवाहरलाल नेहरू कृषि विवि के कुलपति डॉ पी के बिसेन, उप पुलिस महानिरीक्षक भागवत सिंह चौहान, कलेक्टर महेश चंद्र चौधरी, पुलिस अधीक्षक शशिकांत शुक्ला, निगमायुक्त वेद प्रकाश तथा कार्यक्रम के आयोजक यशभारत के डायरेक्टर आशीष शुक्ला ने मां वीणापाणी के तैल चित्र समक्ष दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम आरम्भ किया। सभी अतिथियों के सम्मान के उपरांत यशभारत के डायरेक्टर आशीष शुक्ला ने इस आयोजन के विवरण को बताते हुये इसमे शामिल सभी प्रत्यक्ष और परोक्ष शुभचिन्तकों के प्रति आभार व्यक्त किया।

इनका हुआ सम्मान
वर्ष 2018 पत्रकारिता सम्मान में वरिष्ठ पत्रकार सम्मान – पंकज पटैरया प्रदेश टुडे, बृजमोहन शुक्ला रिंकू दैनिक भास्कर, सुनील दाहिया नई दुनिया, सतीश शर्मा पत्रिका, आशीष राजपूत द-हितवाद, संजय मलिक सहारा समय को प्रदान कर आयोजन समिति गौरवान्वित हुई।

इसी तरह श्रीमती माया शुक्ला महिला पत्रकारिता पुरस्कार – श्रीमती भावना ठाकुर दैनिक भास्कर। एवम श्रीमती सुशीला शुक्ला आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पुरस्कार -श्रीमती सरिता खरे, श्रीमती आशा लोखंडे को ससम्मान दिया गया।

श्रेष्ठ पत्रकारों का चयन शहर के प्रतिष्ठित संपादकों की चयन समिति जिनमें यश भारत के संपादक श्याम कटारे, दैनिक भास्कर के संपादक सुशील तिवारी ,जयलोक के संपादक अजित वर्मा, हिन्दी एक्सप्रेस के संपादक रविन्द्र वाजपेयी, नई दुनिया के संपादक अनूप शाह, पत्रिका के संपादक गोविन्द ठाकरे, हितवाद के संपादक अशुमान भार्गव ने किया।

गरिमामयी आयोजन में इनकी रही भागीदारी
गरिमामयी कार्यक्रम में आयोजन समिति के शरद जैन, आशीष शुक्ला, संजय सत्येन्द्र पाठक, अखिलेश शुक्ला, श्रीमती रश्मि शुक्ला, अभिषेक शुक्ला, अजेय शुक्ला, सौरभ शुक्ला, अर्पित शुक्ला, अंकित शुक्ला, रुझान उपाध्याय, प्रखर कटारे, साक्षी, अस्तित्व, अर्थ, सांझ, मोनिका एवं अवधेश कटारे, आदित्य पण्डित आदि ने कार्यक्रम को भव्यता प्रदान करने महती भूमिका निभाई। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ अधिवक्ता सम्पूर्ण तिवारी, एवं राहुल पाठक ने किया।

अरुणोदय 2018 का विमोचन
आयोजन की मुख्य परम्परा का निर्वहन अरुणोदय बहुपयोगी डायरी के विमोचन के साथ हुआ। प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी यशभारत परिवार सहित अतिथियों ने अरुणोदय का विमोचन किया। इस डायरेक्टरी में इस वर्ष भी बहुपयोगी मोबाइल और टेलीफोन no का समावेश किया गया है।

Advertisements