नक्सलियों से मुठभेड़ में दो जवान शहीद, सात घायल

Advertisements

जगदलपुर। सुकमा जिले के चिंतागुफा-भेज्जी मार्ग में चल रहे निर्माण कार्य में सुरक्षा के लिए तैनात जवानों पर नक्सलियों ने रविवार दोपहर हमला कर दिया। इस हमले में दो जवान शहीद हो गए। वहीं एक मुंशी व श्रमिक की भी हत्या कर दी गई।

मुठभेड़ में सात जवान घायल हो गए इनमें से तीन को गंभीर हालत में हेलीकाप्टर से उपचार के लिए रायपुर भेजा गया है। मौके से तीन श्रमिकों के अपहरण की भी खबर है। इस हमले में करीब 20 नक्‍सलियों के मारे जाने की भी खबर है मगर इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सुकमा के भेज्जी इलाके में भेज्जी से चिंतागुफा सड़क निर्माण का काम चल रहा है। काम बंद करने के लिए माओवादियों ने कई बार चेतावनी दी थी। रविवार दोपहर बड़ी संख्या में नक्लियों ने निर्माण स्थल पर तैनात कोबरा एवं डीआरजी के जवानों पर हमला बोल दिया।

जवानों ने भी जवाबी कार्रवाई की। गोलीबारी में दो सहायक आरक्षक मडकम हंदा और मुकेश कडती मौके पर ही शहीद हो गए। वहीं सात जवान गंभीर रूप से घायल हो गए। नक्सलियों ने सडक निर्माण में लगी दस वाहनों का डीजल टैंक फोड़कर उन्हें आग के हवाले कर दिया।

घटना को अंजाम देने के बाद नक्सलियों ने निर्माण कार्य में लगे मुंशी अनिल कुमार व एक श्रमिक की गला रेतकर हत्या कर दी। इस बीच पूरे इलाके में सर्चिंग आपरेशन बढाने के निर्देश दिए गए हैं। सुरक्षा बलों की अतिरिक्त टुकड़ियों भी क्षेत्र की ओर रवाना की गई हैं।

घायल जवान

सालवन राजा, चापा राकेश, शिवराम सोनी, पदम सोयम, रूप सिंह पोयाम व सोढी बच्चा।

एर्राबोर में मुठभेड़ में एक नक्सली ढेर

इधर जिले के एर्राबोर क्षेत्र में सुरक्षा बल एवं नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई जिसमें एक नक्सली ढेर हो गया है। मारे गए नक्सली की शिनाख्त नहीं हो सकी है। मिली जानकरी के अनुसार पुलिस की ज्वाइंट पार्टी इलाके में सर्चिंग के लिए निकली थी। इस दौरान जंगल में घात लगाए बैठे नक्सलियों ने जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी। जवानों ने भी मोर्चा संभाला। आधे घंटे तक चली फायरिंग के बाद नक्सली भाग खड़े हुए। म मौके की सर्चिंग के दौरान पुलिस ने एक वर्दीधारी नक्सली का शव बरामद किया है।

Advertisements