पीड़कनाशी अवशेष परीक्षण प्रयोगशाला का लोकार्पण आज

Advertisements

जबलपुर। जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय में आज दोपहर  में वित्त राज्य मंत्री  भारत शासन   शिव प्रताप शुक्ल का आगमन हो रहा है।  वे जैव उर्वरक उत्पादन केन्द्र का भ्रमण, औषधीय एवं सगंध पौधों के उद्यान का निरीक्षण, बीज प्रौद्योगिकी केन्द्र का अवलोकन तथा नवर्निमित पीड़कनाशी अवशेष परीक्षण प्रयोगशाला का लोकार्पण करेंगे।

दोपहर 2.30 बजे कृषि महाविद्यालय सभागार में वित्त  राज्य मंत्री  शिव प्रताप शुक्ल के मुख्यातिथ्य तथा जनेकृविवि के कुलपति डॉं. प्रदीप कुमार बिसेन की अध्यक्षता में लोकार्पण समारोह का आयोजन होगा।

इसमें श्री रविनन्दन सिंह पूर्व महाधिवक्ता मप्र शासन प्रमुख अतिथि तथा   राकेश सिंह सांसद,   सुशील तिवारी विधायक पनागर,   अशोक रोहाणी विधायक केन्टोमेंट एवं डॉं. कपिल देव मिश्र कुलपति रादुविवि आदि विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल होंगे।प्रदेश की इकलौती महत्वपूर्ण प्रयोगशाला कुलपति डॉं. बिसेन ने बताया कि राष्ट्रीय कृषि विकास योजना मध्यप्रदेश शासन भोपाल द्वारा वित्त पोषित, 8 करोड़ 37 लाख की लागत से शुरू होने जा रही नवर्निमित पीड़कनाशी अवशेष परीक्षण प्रयोगशाला मध्यप्रदेश की एकमात्र इकलौती महत्वपूर्ण प्रयोगशाला है। इसमें समस्त खाद्यान्न, दलहन, तिलहन, फल-फूल, सब्जियां आदि में कीटनाशकों की सही मात्रा का पता लगाया जा सकेगा। इससे उन किसानों और व्यापारियों को लाभ पहॅुंचेगा जो जिन्सों का निर्यात करते हैं। अन्तर्राष्ट्रीय निर्यात मानक को ध्यान में रखकर की गई जांच से निर्यात किये जाने वाली सामग्री अस्वीकार (रिजेक्ट) नहीं हो सकेंगी। वैज्ञानिक और छात्रों को नई तकनीक तथा शोध के नये अवसर प्राप्त हो सकेंगे। विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट के अनुसार प्रत्येक भारतीय के शरीर में प्रतिदिन 0.5 मिली ग्राम कीटनाशक भोजन के साथ मिल रहा है। इससे अस्वस्थ्ता के साथ ही विभिन्न बिमारियां घर कर रही हैं। इसलिये मानक से अधिक कीटनाशकों का प्रयोग मानव स्वास्थ्य के लिये बहुत घातक है। इस प्रयोगशाला में जांच में आसानी से पता लग जायेगा कि विभिन्न आदानों में कीटनाशक की अवशेष मात्रा निर्धारित मानक से अधिक तो नहीं है।

Advertisements

इसे भी पढ़ें-  समीर वानखेड़े की पत्नी का आरोपों पर पलटवार: क्रांति रेडकर ने कहा- हमें लटकाने, जलाकर मार देने की धमकियां मिल रही हैं