कासगंज हिंसाः साध्वी प्राची की पुलिस से नाेकझाेक, कहा-वंदेमातरम् विराेधियाें से खाली करवाआे बस्तियां

Advertisements

कासगंजः कासगंज में गणतंत्र दिवस के दिन हुई झड़प अब राजनीति गलियारो में भी चर्चा का विषय बनता जा रहा है। इसी कड़ी में कासगंज विवाद में हुई युवक चंदन गुप्ता के अंतिम संस्कार में शामिल होने कासगंज जा रही साध्वी प्राची व उनके काफिले को सिकंदराराऊ पुलिस ने कासगंज रोड पर रोक लिया। इस दौरान उनकी और समर्थकों की सिकंदराराऊ कोतवाल से नोंकझोंक हो गई।

गाड़ी की चाबी निकालने से समर्थक हुए आक्रोशित 
इसी दौरान साध्वी की गाड़ी की चाबी निकालने से उनके समर्थक आक्रोशित हो गए।समर्थकों के साथ साध्वी पंत चौराहा पर धरने पर बैठ गईं। घटना के बाद समर्थकों ने अलीगढ़-एटा व मथुरा-बरेली मार्ग पर जाम लगा दिया गया है।

धरने पर बैठी प्राची ने पुलिस महकमे पर लगाए आरोप 
वहीं धरने पर बैठी साध्वी प्राची ने पुलिस महकमे पर आरोप लगाते हुए कहा कि हिन्दुओं की सुरक्षा चाहिए, उन्होंने कहा कि मुजफ्फरनगर में हमने गौरव और सचिन को खो दिया। वहीं दादरी के अंदर राहुल जेल में था तो उसको एक मुस्लिम जेलर ने पीट-पीटकर मौते के घाट उतार दिया। चौथा कासगंज में चन्दन की हत्या उस दिन हुई है जिस दिन देश जश्न मना रहा था।

वीआईपी को कासगंज की सीमा में घुसने पर लगाया प्रतिबंध 
फिलहाल मौके कई थानों की फोर्स भी मौजूद है। कासगंज जिले से सटे होने के कारण सिकंदराराऊ की सीमा पर पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी हैं। किसी भी वीआईपी को कासगंज की सीमा में घुसने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। उधर, मौके पर मौजूद पुलिस-प्रशासन ने साध्वी प्राची को कड़ी सुरक्षा में अलीगढ़ भेज दिया है।

वंदे मातरम् के विरोधियों को भेजो पाकिस्तान: साध्वी 
इस दौरान साध्वी प्राची ने वंदे मातरम् का विरोध करने वालों पर जमकर निशाना साधा। साध्वी ने कहा कि वंदे मातरम् का विरोध करने वाले लोगों से बस्तियां खाली करा देनी चाहिए और उन्हें सीधे पाकिस्तान भेज दो। क्योंकि हिंदुस्तान में अगर रहेंगे तो उन्हें वंदेमातरम् बोलना ही पड़ेगा।

Advertisements