FEATUREDमध्यप्रदेशराष्ट्रीय

Aadhaar Update: आधार कार्ड को जन्मतिथि के रूप में मान्य नहीं, UIDAI ने बदला न‍ियम

Aadhaar Update: आधार कार्ड को जन्मतिथि के रूप में मान्य नहीं है। नई व्यवस्था को 1 द‍िसंबर से लागू कर द‍िया गया है. इस बारे में भारतीय विशिष्ट पहचान पत्र (UIDAI) की तरफ से आदेश द‍िया गया है। यह कदम आधार में जन्म दिनांक में बदलाव कराकर तारीख, महीना और वर्ष आद‍ि बदलकर होने वाले फर्जीवाड़े को रोकने के लिए उठाया गया है। नए बनने वाले आधार पर भी इसे जन्‍मत‍िथ‍ि के तौर पर इस्‍तेमाल नहीं करने की सूचना आधार कार्ड पर भी अंकित की जा रही है।नया आधार कार्ड डाउनलोड करने पर इस बारे में जानकारी ल‍िखी आएगी।

सत्यापन के लिए जन्म प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना जरूरी

नई व्‍यवस्‍था के बाद आपको आधार कार्ड के साथ जन्म प्रमाणपत्र पेश करना होगा. आधार परियोजना के ड‍िप्‍टी डायरेक्टर राकेश वर्मा ने बताया क‍ि नए नियम के साथ स्कूल कॉलेज में एडमिशन हो या पासपोर्ट बनवाना, सभी जगह आधार महज पहचान दस्तावेज के रूप में काम आएगा. बर्थ डेट के सत्यापन के लिए जन्म प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना जरूरी होगा.

क्‍यों बदला न‍ियम

आधार में जन्मतिथि और नाम बार-बार बदलवाकर लोग पेंशन योजना, एडम‍िशन, खेलकूद प्रतियोगिता समेत अलग-अलग योजनाओं का लाभ लेने के लिए फर्जीवाड़ा कर रहे थे. हालांकि यूआईडीएआई की तरफ से कई बार सख्‍ती की गई. लेक‍िन इसमें कामयाबी नहीं म‍िल सकी. इसके बाद अब इसमें बदलाव किया गया है. गौरतलब है क‍ि आधार प्रोजेक्ट की शुरुआत 2009 में हुई थी. बाद में आधार कार्ड को विशिष्ट पहचान पत्र मानते हुए सभी सुविधाओं से जोड़ द‍िया गया था. जिसके पास आधार कार्ड नहीं था, उसे सरकारी सुविधाओं का फायदा भी नहीं मिल सकता.

क्‍या होगी मुश्‍क‍िल

न‍ियम में बदलाव के बाद आधार में दर्ज जन्मतिथि को मान्यता नहीं देने के बाद बड़ा सवाल खड़ा हो गया है. सवाल यह है क‍ि पेंशन समेत तमाम तरह की योजनाएं व ऐसे काम जहां लोगों के पास जन्म का कोई प्रमाणपत्र नहीं है, उनका क्या होगा? बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं जिनके पास उम्र से जुड़ा क‍िसी तरह का प्रमाणपत्र नहीं है. अभी अधिकांश योजनाएं जनआधार से जुड़ी हैं और इसे सिर्फ आधार कार्ड के जरिये ही बनवाया जा सकता है.

Back to top button