Health

एक पीडियाट्रिशियन बता रही हैं ,क्यों बच्चों और किशोरों में बढ़ती जा रही है सोशल मीडिया एडिक्शन

एक पीडियाट्रिशियन बता रही हैं क्यों बच्चों और किशोरों में बढ़ती जा रही है सोशल मीडिया एडिक्शन,दुनिया भर के होनहार और बुद्धिमान कम्प्यूटर इंजीनियर सोशल मीडिया के अलगोरिदम इस तरह सेट करते हैं कि भूले-भटके साइट पर आया बच्चा बाकी काम छोड़ कर सोशल मीडिया की भूल-भुलैया की दुनिया में खो जाता है।

एक पीडियाट्रिशियन बता रही हैं ,क्यों बच्चों और किशोरों में बढ़ती जा रही है सोशल मीडिया एडिक्शन

मानसिक स्वास्थ्य के लिए खतरा है सोशल मीडिया

2019 में जानी मानी मेडिकल पत्रिका JAMA में एक लेख छपा। इस लेख में जानने की कोशिश की गई कि सोशल मीडिया पर व्यतीत किए समय का सीधा असर मानसिक स्वास्थ्य पर कितना है। इसमें पाया गया कि जो बच्चे किशोरावस्था में तीन घंटे से अधिक समय सोशल मीडिया पर बिताते हैं वे ख़ास तौर पर मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी तकलीफों का सामना करते हैं।

1.इसी उम्र में होता है प्री-फ्रंटल कॉर्टेक्स का विकास

विज्ञान हमें बताता है कि दिमाग़ का विकास बचपन के शुरुआती तीन सालो में ही बहुत तेज़ी से होता है। किंतु एक ख़ास हिस्से का विकास किशोरावस्था के पूरा होने तक नहीं हो पाता है। इस हिस्से को प्री-फ्रंटल कॉर्टेक्स कहते हैं। प्री फ्रंटल कॉर्टेक्स कई चीज़ों के लिए ज़िम्मेदार होता है इसमें सबसे ज़्यादा ज़रूरी बात होती है ‘न करने की इच्छाशक्ति’।

 Read More :- त्वचा पर एक्स्ट्रा ऑयल की समस्या से हैं परेशान, तो ये समर स्किन केयर टिप्स हैं आपके लिए

2 उत्साह अधिक और समझ कम

किशोरावस्था में दिमाग़ तेज़ दौड़ता है, कई मुश्किल सवाल आसानी से हल करने की क्षमता होती है और हर नई और ख़तरनाक चीज़ को करने के लिए मन उत्साहित होता है। वहीं दिमाग ठीक से ख़तरे भाँप नहीं पाता, आंक नहीं पाता। ऐसी स्थिति में, इस उम्र के बच्चे बहुत ही असुरक्षित होते हैं। खुद पर मंडराते ख़तरों से अनभिज्ञ और एक अजीब ओवरकॉन्फिडेन्स से भरे हुए।

एक पीडियाट्रिशियन बता रही हैं ,क्यों बच्चों और किशोरों में बढ़ती जा रही है सोशल मीडिया एडिक्शन

3. बढ़ने लगती है लत

पहली बार जिस काम को करने पर ख़ुशी मिलती है उसमें जितना डोपामीन रिलीज़ होता है अगली बार उतनी ही ख़ुशी पाने के लिए उतना ही काम दोगुनी बार करना पड़ता है। उदाहरणार्थ – जो बच्चा या किशोर पहले एक लाइक से ख़ुश होता था, उसे उतनी ख़ुशी पाने के लिए बीसियों लाइक की ज़रूरत पड़ती है। यह भूख बढ़ती ही जाती है।

Back to top button