SC विवाद के बीच कौन होगा सॉलिसिटर जनरल? मोदी ही जानते हैं

नई दिल्ली।  कुछ महीने पूर्व रंजीत कुमार के पद छोड़ने के बाद महीनों से नए सॉलिसिटर जनरल की नियुक्ति का मामला अधर में लटका हुआ है। रंजीत कुमार ने अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी द्वारा बिना किसी कारण बताए इस्तीफा देने के कुछ महीने बाद ही पद छोड़ दिया था। कहा जाता है कि दोनों खुद को अपने पद पर असुखद महसूस कर रहे थे। अगर उनको मनाया जाता तो वे पद पर बने रह सकते थे मगर रंजीत कुमार के उत्तराधिकारी को ढूंढने से कानूनी और राजनीतिक भाईचारे में भौंहें तनी हुई हैं। काफी कठिनाइयों के बाद सरकार नए अटार्नी जनरल के.के. वेणुगोपाल को ढूंढ पाई मगर नए सॉलिसिटर जनरल की तलाश अभी जारी है।

इसे भी पढ़ें-  1 फरवरी को पेश होगा देश का बजट, 29 जनवरी से संसद का बजट सत्र

ऐसी अटकलबाजी है कि गुजरात के एडवोकेट जनरल कमल त्रिवेदी को दिल्ली लाया जाएगा मगर इस प्रस्ताव को सत्ता में कोई समर्थन नहीं मिला। तब वरिष्ठ एडवोकेट राकेश त्रिवेदी के नाम को आगे किया गया। मालूम हुआ है कि वित्त मंत्री अरुण जेतली के बहुत करीबी समझे जाने वाले कुछ वरिष्ठ एडवोकेटों के नामों को भी कानून मंत्रालय में समर्थन नहीं मिला। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने केवल इतना ही कहा है कि नए सॉलिसिटर जनरल की नियुक्ति शीघ्र की जाएगी। विभाग में अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल के भी कुछ पद रिक्त हैं। अब यह चर्चा है कि सरकार में एक वर्ग तुषार मेहता को नया सॉलिसिटर जनरल बनाए जाने के पक्ष में है। मेहता गुजरात से संबंधित हैं और 3 वर्ष से अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल के पद पर हैं। कहा जाता है कि उनकी फाइल प्रधानमंत्री कार्यालय में लंबित है और इसका फैसला प्रधानमंत्री मोदी को ही लेना है।

Leave a Reply