ISRO ने रचा इतिहास, लॉन्च किया भारत का 100वां सेटेलाइट

बेंगलूरू: । भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अपना शतक पूरा कर लिया। इसरो ने आज एकसाथ 31 उपग्रहों को छोड़ा, इसमें भारत के 3 और 6 अन्य देशों के 28 उपग्रह शामिल हैं। श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र से आज सुबह 9.28 बजे पीएसएलवी-सी40 राकेट को छोड़ा गया। सैटेलाइट केन्द्र निदेशक एम. अन्नादुरई ने बताया कि माइक्रो उपग्रह अंतरिक्ष में भारत का 100वां उपग्रह है। अंतरिक्ष वैज्ञानिक और इंजीनियरों ने गुरुवार को राकेट के निचले, मध्य और ऊपरी हिस्से की तेल की टंकी में द्रव्य और ठोस ईंधन गुरुवार को ही भरना शुरू कर दिया था।

yashbharat
पिछले साल भी हुआ था प्रक्षेपण
पिछले साल 31 अगस्त को इसी तरह के राकेट से नौवहन उपग्रह आई.आर.एन.एस.एस.1-एच लांच किया गया था, लेकिन हीट शील्ड न खुलने की वजह से सैटेलाइट राकेट के चौथे चरण में असफल हो गया था।

इसे भी पढ़ें-  कांग्रेस से आये यह शख्स, नॉर्थ-ईस्ट में कमल खिलाने में इनका अहम रोल

yashbharat

पाकिस्तान भी डरा
पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया कि भारत द्वारा 3 कार्टोसैट-2 श्रृंखला के अर्थ ऑब्जर्वेशन उपग्रहों को अंतरिक्ष भेजे जाने की योजना का मकसद  सैन्य  इस्तेमाल है और सभी अंतरिक्ष प्रौद्योगिकियां दोहरे इस्तेमाल की क्षमता से युक्त हैं। भारतीय उपग्रहों में 100 किलोग्राम का एक माइक्रो सैटेलाइट और 5 किलोग्राम का एक नैनो सैटेलाइट भी शामिल है। बाकी 28 सैटेलाइट कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन और अमरीका के हैं। सभी उपग्रहों का कुल वजन 1323 किलोग्राम है। पाक ने कहा कि यह जरूरी है कि इनका इस्तेमाल सैन्य क्षमताओं के लिए न किया जाए, अगर ऐसा होता है कि इसका क्षेत्र पर गलत प्रभाव पड़ेगा।

इसे भी पढ़ें-  शिवसेना-BJP गठबंधन बचाने की एक और कोशिश, फिर से शुरू हुई बातचीत

Leave a Reply