इंदौर हादसाः CM शिवराज बोले- हटाई जाएंगी 15 साल से ज्यादा पुरानी स्कूल बसें

इंदौर।  मध्यप्रदेश के इंदौर में भीषण सड़क हादसे में दिल्ली पब्लिक स्कूल के चार बच्चों और ड्राइवर की मौत की घटना से प्रदेश सरकार सकते में आ गई है। घटना से सबक लेते हुए सरकार ने सूबे में चल रहीं 15 साल से अधिक पुरानी 2,514 स्कूल बसों को हटाने का फैसला किया है।

शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती घायल छात्रों का हाल जानने के बाद मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि हम प्रदेश में 15 साल से अधिक पुरानी स्कूल बसों को किसी भी हालत में नहीं चलने देंगे। उन्होंने कहा कि इन बसों को तीन महीने के भीतर हटाने के लिए आवश्यक निर्देश जारी किए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने बताया ​कि सूबे में परिवहन विभाग की मंजूरी से फिलहाल करीब 17,400 स्कूल बसें चल रही हैं। इनमें से 2,514 बसें 15 साल से अधिक पुरानी हैं। इन पुरानी बसों को सिलसिलेवार तरीके से हटाया जाएगा।

इसे भी पढ़ें-  LIVE: पीएम मोदी ने कहा- गांधी जी के सपनों को साकार करने का अवसर है

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम बसों की फिटनेस की उचित जांच के लिए हर जिले में स्वचालित केंद्र शुरू करेंगे ताकि इस सिलसिले में किसी भी तरह का मानवीय हस्तक्षेप खत्म किया जा सके। शिवराज ने बताया कि तेज रफ्तार के चलते होने वाली सड़क दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए प्रदेश सरकार ने स्कूल बसों की अधिकतम गति सीमा 40 किलोमीटर प्रति घंटा तय करने का फैसला भी किया है।

शिवराज ने इंदौर के क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी (आरटीओ) एमपी सिंह की मीडिया में छपी एक तस्वीर पर संज्ञान लेते हुए अधिकारी को हटाए जाने के फैसले की जानकारी दी। इस तस्वीर में आरटीओ डीपीएस बस हादसे के बारे में पुलिस के एक आला अधिकारी को हंसते-हंसते जानकारी देते नजर आ रहे हैं।

इसे भी पढ़ें-  CM शिवराज ने कटनी में कहा-न कमजोर न ही मजबूर मैं तो मजबूत मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने समाचार-पत्रों में यह तस्वीर देखी है। ऐसी भीषण दुर्घटना के बाद भी आरटीओ का बर्ताव ठीक नहीं है। लिहाजा मैंने आरटीओ को तत्काल हटाने का फैसला किया है। कई लोगों ने आरटीओ की विवादास्पद तस्वीर को सोशल मीडिया पर भी साझा किया है और आला अधिकारी के कथित असंवेदनशील रवैए को लेकर तीखा आक्रोश जताया है।

Leave a Reply