किताबें लिखने के लिए रास आ गई जेल, मालेगांव ब्लास्ट का आरोपी नहीं ले रहा जमानत

मुंबई। जेल का नाम सुनते ही किसी का भी दिल बैठ जाता है। मगर मालेगांव ब्लास्ट मामले में जेल में बंद एक आरोपी जमानत लेने को तैयार नहीं है, क्योंकि वो जेल में रहते हुए ही प्राचीन हथियारों पर शोध करने के काम को जारी रखना चाहता है।

50 वर्षीय राकेश धावड़े 2008 में 29 सितंबर को नासिक के मालेगांव हुए विस्फोट मामले के आरोपी हैं। गिरफ्तार होने के बाद से ही वह जेल में हैं। इसी मामले में आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर और लेफ्टीनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित सहित कई को जमानत मिल चुकी है। लेकिन धावड़े जमानत लेने के लिए तैयार नहीं हैं।

अब तक वह 25000 से ज्यादा पृष्ठ लिख चुके हैं। इस शोध के अलावा अलग-अलग विषयों पर उन्होंने करीब 15 पुस्तकें लिखी हैं। फिलहाल वह प्राचीन तोपों पर शोध कर रहे हैं। राकेश धावड़े का मामला अनोखा है। लोग जल्दी से जल्दी जेल से आजाद होना चाहते हैं, लेकिन उन्होंने वहां के माहौल को लेखन के लिए मुफीद माना है।

इसे भी पढ़ें-  सुप्रीम कोर्ट ने जेपी वालों से कहा-अच्छे बच्चे बनकर 2000 करोड़ जमा करा दीजिए, वरना आपकी निजी संपत्ति होगी जब्त

जमानत के लिए परिजनों के आग्रह पर उन्होंने तर्क दिया कि जो काम वह कर रहे हैं, उसके लिए जेल जैसी शांति उन्हें बाहर नहीं मिल पाएगी। पेशे से वकील उनकी छोटी बहन नीता धावड़े ने बताया कि स्वभाव से गंभीर प्रकृति के राकेश की प्राचीन हथियारों में अभिरुचि वंशानुगत है।

उनके पूर्वज छत्रपति शिवाजी महाराज की सेना में हथियार बनाते थे। शिवाजी की तरफ से उन्हें धावडे़-सरपाटि की उपाधि मिली थी। राकेश जब कक्षा पांच में थे, तो उन्होंने एक तलवार की प्रतिकृति बनाकर अपने शिक्षक को दिखाई थी।

उनके चाचा और मां ने प्राचीन हथियारों में उनकी रुचि बढ़ाने में भूमिका निभाई। शिक्षा पूरी करने के बाद राकेश ने पुणे के राजा केलकर दिनकर म्यूजियम में नौकरी भी की।

इसे भी पढ़ें-  सामाजिक सरोकारों से जुड़े विषयों में होगा यूजी और पीजी

कुछ वर्ष बाद ही वहां से अलग होकर उन्होंने ‘इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑफ ओरियंटल आम्र्स एंड आर्मरी’ नामक संस्था बना ली। यह संस्था जगह-जगह बच्चों के लिए प्राचीन हथियारों की प्रदर्शनी लगाती थी।

राकेश की सलाह पर ही 2005 में बनी फिल्म ‘मंगल पांडे: द राइजिंग’ में प्राचीन हथियारों का प्रयोग किया गया था। उन्हें वर्ष 2000 में इंग्लैंड के एक संग्रहालय के निमंत्रण पर दो बार न सिर्फ वहां जाने का मौका मिला, बल्कि वह रॉयल आम्र्स एंड आर्मर सोसायटी के सदस्य बने।

सदस्य बनने वाले वह पहले भारतीय हैं। नीता ने बताया कि जेल में रहकर पुस्तकें प्रकाशित कराने के लिए भी राकेश को लंबी लड़ाई लड़नी पड़ी। विशेष जज एसडी टेकाले ने न सिर्फ उन्हें पुस्तकें प्रकाशित कराने की अनुमति दी, बल्कि उनके शोधकार्य की प्रशंसा भी की।

इसे भी पढ़ें-  ताजमहल को गिराना चाहिए, ऐसा योगीजी निर्णय लें तो हमारा सहयोग रहेगा- आजम खान

आर्थिक तंगी के कारण अभी तक उनकी कोई पुस्तक प्रकाशित नहीं हो सकी है, लेकिन इन पुस्तकों के प्रकाशन के लिए अभी कोशिश जारी है और उम्मीद है कि इसमें कामयाबी भी मिल जाएगी।

9 thoughts on “किताबें लिखने के लिए रास आ गई जेल, मालेगांव ब्लास्ट का आरोपी नहीं ले रहा जमानत

  • December 9, 2017 at 9:40 PM
    Permalink

    Heya are using WordPress for your site platform? I’m new to the blog world but I’m trying to get started and create my own. Do you need any coding knowledge to make your own blog? Any help would be really appreciated!

  • December 12, 2017 at 8:56 AM
    Permalink

    You are certainly right and I totally understand you. If you want, we could as well chat around best mesothelioma attorney, a thing which intrigues me. Your site is really brilliant, best wishes!

  • December 14, 2017 at 11:28 AM
    Permalink

    Oh my goodness! an incredible post dude. Thank you Nonetheless I’m experiencing concern with ur rss . Do not know why Unable to subscribe to it. Is there anybody acquiring identical rss trouble? Anyone who knows kindly respond.

  • December 15, 2017 at 8:26 PM
    Permalink

    I’m really interested to find out what blog system you are working with? I am experiencing some slight security challenges with the most recent blog about endodontist so I would love to find a thing a lot more safe. Are there any alternatives?

  • December 16, 2017 at 8:22 PM
    Permalink

    In this great design of things you’ll receive an A+ for effort and hard work. Where exactly you misplaced me personally was first in all the details. You know, it is said, the devil is in the details… And it could not be much more accurate here. Having said that, allow me say to you just what did deliver the results. The writing is certainly really engaging and that is possibly the reason why I am making an effort in order to comment. I do not make it a regular habit of doing that. Secondly, despite the fact that I can certainly notice the leaps in logic you come up with, I am definitely not sure of how you seem to connect the details which in turn produce the final result. For right now I shall yield to your issue but wish in the near future you actually connect the facts much better.

  • January 4, 2018 at 9:18 PM
    Permalink

    Nice post. I used to be checking constantly this weblog and I am impressed! Very useful information particularly the remaining phase 🙂 I handle such information a lot. I used to be seeking this particular information for a very long time. Thanks and good luck.

Leave a Reply