आडवाणी, झल्लाकर पूछा- लोकसभा चलेगी भी या नहीं

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कथित टिप्पणी को लेकर संसद में जारी गतिरोध की वजह से सदन में कोई कामकाज नहीं हो पा रहा है।

 

इससे बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी काफी नाराज हैं। बुधवार को जब लोकसभा को हंगामे की वजह से दूसरी बार स्थगित किया गया तो लाल कृष्ण आडवाणी ने खाली सदन को संबोधित करते हुए पूछा, ‘ क्या सदन चलेगी भी या नहीं।’ लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने जब बुधवार को दूसरी बार सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी तो नाराज एल के आडवाणी ने यह प्रतिक्रिया दी।

बता दें कि गुजरात चुनाव के दौरान पूर्व पीएम डॉ मनमोहन सिंह के खिलाफ पीएम मोदी द्वारा की गई एक कथित टिप्पणी से कांग्रेस के नेता काफी नाराज हैं और पीएम से माफी की मांग कर रहे हैं। हालांकि कांग्रेस के सदस्यों ने इस मुद्दे पर अपने रूख में नरमी लाते हुए गुरुवार को कहा कि वे प्रधानमंत्री से माफी नहीं, स्पष्टीकरण की मांग कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें-  पाक जासूस ने अपनी ही एजेंसी को बताया आतंक समर्थक, कोर्ट में लगाई याचिका

हालांकि लोकसभा में ऐसे दृश्य आम हैं, लेकिन बुधवार के वाकये से आडवाणी बेहद दुखी दिखे। बुधवार को हंगामे के बाद जब लोकसभा को स्थगित कर दिया गया तो विपक्षी और सत्ता पक्ष के सांसद बाहर चले गये। पर आडवाणी लोकसभा में ही पहली कतार में लगभग आधा घंटे तक बैठे रहे। आखिरकार 90 साल के आडवाणी ने सदन के एक वरिष्ठ अधिकारी से पूछा, ‘ क्या सदन चलेगी भी या नहीं?’ जब आडवाणी को बताया गया कि लोकसभा स्थगित कर दी गई है, तो भी वह संतुष्ट नहीं हुए। पूरे वाकये से नाराज आडवाणी ने कहा, ‘इसका कोई तो समाधान होना चाहिए।’

इसे भी पढ़ें-  AAP की अपील, केजरीवाल की 'बेइज्जती' का बदला लेने के लिए दें 100 रूपए का चंदा

लोकसभा में इस मुद्दे पर संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि यह कोई मुद्दा नहीं है और सदन की कार्यवाही जारी रहनी चाहिए। लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने इस मुद्दे पर अपनी बात रखने का प्रयास किया लेकिन अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने इसकी अनुमति नहीं दी । इसके बाद कांग्रेस के कुछ सदस्य आसन के समक्ष आ कर नारे लगाने लगे।  इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सदन में मौजूद थे। हंगामे के कारण महाजन ने बैठक शुरू होने के करीब दस मिनट बाद ही कार्यवाही को दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दिया। एक बार के स्थगन के बाद बैठक पुन: शुरू होने पर सदन में वही नजारा था और अध्यक्ष ने 12 बज कर करीब 20 मिनट पर बैठक दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी।  दो बजे बैठक फिर शुरू होने कांग्रेस सदस्यों का हंगामा जारी रहा। कुछ सदस्य आसन के समीप आ कर नारे लगाने लगे। कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने पूर्व प्रधानमंत्री के खिलाफ कथित टिप्पणी का मुद्दा उठाया। तब सदन में स्थावर संपत्ति अधिग्रहण और अर्जन (संशोधन) विधेयक 2017 पर चर्चा चल रही थी। बाद में कांग्रेस के सदस्यों ने सदन से वाकआउट किया। लेकिन सदन में सामान्य कामकाज जारी रहा।

Leave a Reply