शहीद की बेटी के विवाह में सीएम शिवराज ने निभाया पिता का फर्ज, देखें तश्वीर

भोपाल । सिमी आतंकियों के हमले में शहीद हुए रमाशंकर यादव की इकलौती बेटी सोनिया की शादी शुक्रवार को अलग अंदाज में हुई।

शहीद हो चुके पिता तो इस शादी में शरीक न हो सके, लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनकी जगह ले ली। ग्वालियर जाने से पहले वे उस मैरिज गार्डन जा पहुंचे, जहां शादी समारोह होना तय था।

गार्डन के गेट और स्टेज में कुछ कमियां नजर आईं तो मुख्यमंत्री ने उन्हें बेहतर करवा दिया। बारातियों के लिए खाने का जायजा लिया और ग्वालियर के लिए रवाना हो गए। इससे पहले कुछ अफसरों को छोटी-छोटी बातों का भी ख्याल रखते हुए पाबंद कर गए।

इसे भी पढ़ें-  "पद्मावती" पर शिवराज की दो टूक सेंसर पास करे फिर भी प्रदेश में नहीं होगी रिलीज

मुख्यमंत्री ग्वालियर से लौट आए। राज्यमंत्री विश्वास सारंग भी साथ थे। बारात का स्वागत किया, कमियों के लिए क्षमा भी मांगी बारात मैरिज गार्डन पहुंची तो मुख्यमंत्री ने बारातियों को स्वागत किया।

दूल्हे को घोड़ी से उतारा, द्वार पूजा करवाई और फिर हाथ पकड़कर स्टेज तक ले गए। वरमाला के दौरान भी स्टेज पर बेटी के पिता की तरह मौजूद रहे। सोनिया को भेंट स्वरूप जीएडी में सहायक ग्रेड-3 का नियुक्ति पत्र भी दिया। बारातियों से घूमकर खाने के लिए कहा और कुछ कमियों को लेकर हाथ जोड़कर क्षमा भी मांग ली।

सरकार करवाएगी हर शहीद की बेटी की शादी एक महिला एसडीएम को सोनिया की साज-सज्जा की जिम्मेदारी दे दी। आठ सरकारी वाहन नाते-रिश्तेदारों को घर से मैरिज गार्डन तक लाने ले जाने के लिए लगा दी गई थीं। हर कोई हैरान था, क्योंकि शिवराज को मुख्यमंत्री होने के साथ-साथ पिता की जिम्मेदारी निभाते हर किसी ने नहीं देखा था।

Leave a Reply