पाकिस्तान का पहला राष्ट्रध्वज कहां है, सरकार को भी नहीं है पता

इस्लामाबाद। पाकिस्तान का पहला राष्ट्रीय ध्वज गायब हो गया है। सरकार ने नेशनल असेंबली को बताया कि उसे पता नहीं है कि देश का पहला राष्ट्रीय ध्वज कहां है। यह जानकारी उस वक्त सामने आई जब पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज की सांसद खालिदा मंसूर ने प्रधानमंत्री खान द्वारा जिन्ना को सौंपे गए देश के पहले झंडे के बारे में पूछा था।

‘डॉन’ अखबार के मुताबिक, पाकिस्तान के पहले प्रधानमंत्री लियाकत अली खान ने कायदे आजम मोहम्मद अली जिन्ना को 11 अगस्त 1947 को संविधान सभा की पहली बैठक के दौरान राष्ट्रीय झंडा सुपुर्द किया था। मगर, सत्तारूढ़ दल की एक सांसद के एक सवाल के लिखित जवाब में गृह मंत्रालय ने बताया कि पहले ध्वज की हिफाजत के लिए वह जिम्मेदार नहीं है। उसके पास केवल ध्वज के संबंध में नियमों की जिम्मेदारी थी।

इसे भी पढ़ें-  मोशे पहुंचा भारत-26/11 के मुंबई हमले में आया ने बचाई थी जान

खालिद मंसूर ने पूछा था कि, आखिर ध्वज कहां है और किस स्थिति में है, क्या उसे संभालकर रखा गया है? आखिर नेशनल असेंबली को पाकिस्तान के पहले ध्वज के बारे में जानकारी होना चाहिए थी। सरकार की जिम्मेदारी है कि, वह ध्वज को संरक्षित रखे और इस बारे में संसद को जानकारी दे। यह देश की राष्ट्रीय धरोहर है।

उल्लेखनीय है कि, 15 अगस्त 1947 को भारत को ब्रिटिश राजसत्ता से आजादी मिली, मगर भारत दो भागों में बंट गया। एक भाग पाकिस्तान कहलाया तो एक भारत जिसे हिंदुस्तान भी कहा जाता है। पाकिस्तान के प्रथम प्रधानमंत्री मोहम्मद अली जिन्ना थे। कहा जाता है कि, स्वाधीनता के बाद सत्ता को लेकर कुछ नेताओं में चर्चा हुई थी। इसमें भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और मोहम्मद अली जिन्ना में कुछ मतभेद हो गए थे, जिसकी परिणामस्वरूप पाकिस्तान का जन्म हुआ।

Leave a Reply

Gallery Powered By : XYZScripts.com