भोपाल में अचानक बढ़ी सरगर्मी, बदलेंगे भाजपा प्रदेशाध्यक्ष? महाकोशल से नया अध्यक्ष !

भोपाल। मध्यप्रदेश भाजपा के अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान की कुर्सी खतरे में आ गई है। कई मीडिया रिपोर्ट्स का दावा है कि राष्टीय हाईकमान जल्द ही इस पर फैसला ले सकता है।इस बार प्रदेश प्रदेश अध्यक्ष का पद महाकोशल के खाते में जा सकता है। सूत्रों के अनुसार सांसद राकेश सिंह नए प्रदेश अध्यक्ष बनाये जा सकते हैं।

 

सवाल यह उठता है कि कौन हो सकता है अगला भाजपा प्रदेशाध्यक्ष इसमें सबसे ऊपर नोरोत्तम मिश्रा का नाम है हालांकि रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि इस बार महाकोशल से नया प्रदेशाध्यक्ष बनाया जा सकता है।

 

महाकौशल से होगा नया प्रदेश अध्यक्ष

सूत्रों का दावा है कि मप्र का अगला प्रदेश अध्यक्ष महाकौशल से आएगा। मध्यभारत से नरेन्द्र सिंह तोमर एवं प्रभात झा आ चुके हैं। नंदकुमार सिंह चौहान निमाड़ मालवा से है। इंदौर लोकल से प्रदेश अध्यक्ष को नहीं लिया जा सकता क्योंकि वहां सुमित्रा महाजन और कैलाश विजयवर्गीय जैसे दिग्गज पहले से ही मौजूद हैं। महाकौशल को यह अवसर दिया जा सकता है। यहां से 2 नाम सुर्खियों में हैं। पहला मप्र के उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ला एवं दूसरे जबलपुर के भाजपा सांसद राकेश सिंह।

इसे भी पढ़ें-  मध्यप्रदेश के विवि में होंगे लोकपाल नियुक्त, करेंगे शिकायतों का निराकरण

 

क्या लग रहे आरोप

आरोप है कि नन्द कुमार सिंह सीएम शिवराज सिंह चौहान के प्रवक्ता बनकर रह गए हैं। संगठन को शिवराज से शिवराज तक सीमित करने की कोशिश करते हैं। हालांकि संगठन भी ​शिवराज के साथ है परंतु केवल शिवराज के प्रति समर्पित हो जाने में कई नेताओं को आपत्ति है। काफी शिकायतें हो चुकीं हैं और माना जा रहा है कि गुजरात चुनाव के बाद उचित अवसर पर नंदकुमार सिंह चौहान को बदल दिया जाएगा।

प्रदेश संगठन महामन्त्री से दूरियां

याद दिला दें कि भाजपा के संगठन महामंत्री सुहास भगत की टीम के साथ नंदकुमार सिंह चौहान की दूरियां सार्वजनिक हो चुकीं हैं। आरोप है कि नंदकुमार सिंह संगठन में पदाधिकारियों का चयन भाजपा नहीं बल्कि शिवराज सिंह को ध्यान में रखकर कर रहे हैं। कई नियुक्तियां विवादित हो चुकीं हैं। हालात यह भी रहे कि कुछ नियुक्तियों की सूचियां तो नंदकुमार सिंह की जानकारी के बिना भी जारी हुईं।

इसे भी पढ़ें-  राज्यमंत्री संजय पाठक ने राहुल गांधी के दौरे को बताया नाटक, कहा- घड़ियाली आंसू प्रदेश के किसान पहचानते हैं

एक खास बात यह भी है कि मप्र के भाजपा नेताओं में सोशल मीडिया पर शिवराज सिंह चौहान के अलावा नंदकुमार सिंह ही ऐसे नेता हैं जो सबसे ज्यादा ट्रोल किए जाते हैं। नंदकुमार सिंह के खाते में समाज के कुछ विशेष वर्गों को लेकर कई विवादित बयान भी दर्ज हैं।

2 बड़े दिग्गजों के नाम सुर्खियों में

सवाल यह है कि यदि नंदकुमार सिंह नहीं तो मप्र भाजपा की कमान किसे सौंपी जाएगी। संभावनाओं में सबसे पहला नाम शिवराज सिंह कैबिनेट के सबसे प्रभावशाली मंत्री नरोत्तम मिश्रा का आ रहा है। बताया जा रहा है कि नरोत्तम मिश्रा अब सत्ता को छोड़कर संगठन के लिए काम करना चाहते हैं। अमित शाह भी चाहते हैं कि नरोत्तम मिश्रा जैसे लोग उनकी टीम में हों ताकि भाजपा को देश भर में लाभ दिलाया जा सके। काफी हद तक संभावनाएं हैं कि नरोत्तम मिश्रा कैलाश विजयवर्गीय के समकक्ष भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव बनाए जाएंगे परंतु यदि किसी अन्य नाम पर सहमति नहीं बन पाई तो नरोत्तम मिश्रा को मप्र की कमान सौंपी जा सकती है।

इसे भी पढ़ें-  पुलिस मुख्यालय में छोटे बच्चों को साथ ला सकेंगे कर्मचारी

कैलाश विजयवर्गीय भी इस संभावित नामों में से एक हैं। मप्र में भाजपा के कई दिग्गज नेता चाहते हैं कि कैलाश विजयवर्गीय को संगठन की कमान मिले। कैलाश विजयवर्गीय के खाते मेंं पहले से ही कई सफलताएं दर्ज हैं। इंदौर में उन्होंने संगठन को काफी मजबूत कर दिया था,। महाकोशल की 39 सीटों पर भाजपा की नजर है लिहाजा राकेश सिंह की दावेदारी भी काफी मजबूत दिख रही है।

 

Leave a Reply