चुनाव आयोग ने राहुल को भेजा नोटिस, 18 दिसंबर तक मांगा जवाब

नई दिल्ली: गुजरात में दूसरे फेज की वोटिंग से ठीक एक दिन पहले राहुल गांधी के टी.वी. इंटरव्यू पर विवाद खड़ा हो गया है।

भाजपा द्वारा इस मामले में चुनाव आयोग की दी गई शिकायत के बाद आयोग ने राहुल गांधी को नोटिस जारी कर 18 दिसम्बर शाम 5 बजे तक जवाब देने के लिए कहा है।

नोटिस में राहुल को रिप्रेजैंटेशन ऑफ पीपल एक्ट 1951 की धारा 126 (1)(बी)के तहत नोटिस जारी किया गया है। इस धारा के तहत दोषी पाए जाने पर राहुल को 2 साल तक की कैद हो सकती है।

नोटिस के बाद कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग से मिला और आयोग पर दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री मोदी पर भी कार्रवाई करने की मांग की। इससे पहले भाजपा नेता पीयूष गोयल ने आरोप लगाते हुए कहा कि चुनाव प्रचार के आखिरी 48 घंटों में इंटरव्यू की इजाजत नहीं थी। मुझे भरोसा है कि इलैक्शन कमीशन इस पर एक्शन लेगा।

इसे भी पढ़ें-  Exclusive-विधानसभा चुनाव : कटनी में समीकरणों को नये मतदाताओं ने चखाया है मजा

भाजपा की शिकायत के बाद चीफ  इलैक्टोरल ऑफिसर बी.बी. स्वेन ने कहा कि राहुल के इंटरव्यू को लेकर हमें शिकायत मिल चुकी है। हमने डी.वी.डी. मंगवा ली हैं। जांच करेंगे कि एक्ट का उल्लंघन हुआ है या नहीं।

कब क्या हुआ
दोपहर 1 बजे – गुजरात के स्थानीय चैनलों पर राहुल गांधी के इंटरव्यू का प्रसारण
दोपहर 3.24 – केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने चुनाव आयोग से कार्रवाई की मांग की। भाजपा के गुजरात के लीगल सैल के चुनाव प्रभारी प्रींदू भक्त ने आयोग को शिकायत भेजी
दोपहर 4.17 – गुजरात के सी.ई.ओ. बी.बी. स्वाइन ने भाजपा की शिकायत मिलने की पुष्टि की और कहा कि शिकायत को केंद्रीय चुनाव आयोग को भेज दिया गया है।
शाम 7.31 – चुनाव आयोग सी.ई.ओ. गुजरात को इस मामले में कार्रवाई के निर्देश दिए।
शाम 8.52- चुनाव आयोग ने राहुल का इंटरव्यू रोकने के आदेश दिए, राहुल को नोटिस जारी कर पूछा कि क्यों न उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए। जवाब के लिए 18 दिसम्बर शाम 5 बजे तक का वक्त लिया।
रात 9.17- गुजरात के सी.ई.ओ. बी.बी. स्वाइन ने कहा कि आयोग ने रिप्रैजैंटेशन ऑफ पीपल एक्ट की धारा 126 (1)(बी) के तहत एफ.आई.आर. दर्ज करने के आदेश दिए हैं।
रात 9.20 – कांग्रेस का शिष्टमंडल चुनाव आयोग से मिला, आयोग पर दोहरा रवैया अपनाने के आरोप लगाए। मोदी पर एफ.आई.आर. दर्ज करने की मांग।

Leave a Reply