आज से बदल जायेगा बहुत कुछ- जानें क्या?

भोपाल।  एक दिसंबर से देश में कई चीजें बदलने जा रही हैं. इन बदलावों में मोबाइल को आधार से घर पर बैठकर लिंक कर सकते हैं. रेलवे के सभी रिजर्वेशन सेंटर पर भीम ऐप से पेमेंट लेने की सुविधा शुरू हो जाएगी. आइए जानते है और कौन से बड़े बदलाव होने जा रहे हैं और इसका असर हम सभी की जिंदगी पर पड़ने वाला है.

घर पर बैठकर कर सकते हैं मोबाइल को आधार से लिंक:अब आप घर बैठे अपने मोबाइल नंबर को आधार से लिंक कर पाएंगे. इसके लिए टेलीकॉम कंपनियां एक तारीख से तीन नई सुविधाएं ला रही हैं. जिनका फायदा उठाकर आसानी से घर बैठे अपने मोबइल नंबर को आधार से लिंक किया जा सकेगा. भारतीय विश‍िष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने अपनी साइट पर इसकी जानकारी दी है. यूआईडीएआई के मुताबिक टेलिकॉम कंपनियां एक दिसंबर से इन सुविधाओं को लाने वाली है. आगे जानिए कैसे आप एक दिसंबर के बाद घर बैठे मोबाइल नंबर को आधार से लिंक कर सकेंगे.

ऐप के जरिये भी करा सकते हैं लिंक:

कंपनियां वेबसाइट जैसी सुविधा अपने ऐप में भी दे सकती हैं. इसके लिए कंपनियां ऐप में भी नया टैब ला सकती हैं. ऐप पर आपको यह सुविधा तब ही नजर आएगी, जब आप उसे अपडेट कर देंगे.

आधार से लिंक करने का तरीका: मोबाइल नंबर को आधार से लिंक करने के लिए आप एक दिसंबर से अपने टेलीकॉम ऑपरेटर की वेबसाइट पर जा सकते हैं. कंपनियां अपनी वेबसाइट पर कोई ऐसा टैब ला सकती हैं, जो मोबाइल नंबर को आधार से लिंक करने के लिए तैयार किया जाएगा.इस पर क्ल‍िक करते ही आपको अपना मोबाइल नंबर और आधार डिटेल डालनी होगी. इसके बाद आधार के साथ रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर वन टाइम पासवर्ड आएगा. इसे एंटर करते ही आपका मोबाइल नंबर आधार से लिंक हो जाएगा.

रेलवे टिकट का पेमेंट अब और हुआ आसान:

रेलवे कैशलेस ट्रांजैक्‍शन को प्रमोट करने के लिए एक दिसंबर से सभी रिजर्वेशन सेंटर पर भीम ऐप से पेमेंट लेने की सुविधा शुरू कर रहा है. यानी कि आपको किसी तरह के कार्ड की जरूरत नहीं पड़ेगी. अपने स्‍मार्ट फोन से भीम ऐप के जरिए पेमेंट कर सकते हैं.

बस करना होगा ये आसान काम:

रेलवे काउंटर पर बैठा बुकिंग क्लर्क पैसेंजर एवं गंतव्य की जानकारी लेकर पीआरएस में भरेगा और भुगतान के लिये भीम एप का विकल्प चुनेगा. टिकट बुक कराने वाले से उसका वर्चुअल पेमेंट एड्रेस (वीपीए) मांगेगा. बुकिंग क्लर्क पीआरएस में उस वीपीए को भरेगा. ऐसा करते ही यात्री को मोबाइल पर भुगतान का अनुरोध संबंधी संदेश प्राप्त होगा. यात्री को उसे स्वीकार करना होगा. उसे स्वीकार करते ही भीम एप से जुड़े बैंक खाते से पैसा रेलवे के खाते में पहुंच जाएगा. इस पर पीआरएस और मोबाइल दोनों पर भुगतान की सफलता का संदेश आ जाएगा. तब बुकिंग क्लर्क टिकट प्रिंट कर सकेगा.

सभी कारों पर फास्टैग लगाना हुआ अनिवार्य:

सरकार ने सभी टोलबूथ पर लगने वाले जाम को कम करने और ट्रैफिक की रफ्तार बढ़ाने के लिए एक बड़ा फैसला लिया है. केन्द्र सरकार ने एक दिसंबर से सभी वाहन निर्माताओं और डीलर्स के लिए नए वाहनों पर फास्टैग लगाना अनिवार्य कर दिया है. ऐसे में यदि आप नई कार खरीद रहे हैं, तो आपको ये जरूर सुनिश्चित करना चाहिए कि क्या आपके विंडस्क्रीन पर फास्टैग लगा है या नहीं. सडक़ और परिवहन मंत्रालय ने इस बारे में अधिसूचना भी जारी कर दी है. आइए जानते हैं फास्टैग से जुड़े कुछ अहम बातें

क्या है फास्टैग:

फास्टैग एक ऐसा उपकरण है जिसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है. फास्टैग आपके कार के विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है और यह प्रीपेड या संबंधित बचत खाते से लिंक होता है. इसके प्रयोग से किसी भी टोल प्लाजा पर भुगतान के लिए रुके बिना निकलने की अनुमति होती है.

कैसे खरीदें फास्टैग:

फास्टैग को खरीदने के लिए आपको ज्यादा मशक्कत करने की जरूरत नहीं हैं. आप इसे एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, सिंडिकेट बैंक, एक्सिस बैंक, आईडीएफसी बैंक जैसे किसी भी आधिकारिक बैंक में आसानी से खरीद सकते हैं. आप इसे टोल प्लाजा और पेटीएम के जरिए भी खरीद सकते हैं

LIC ने बंद की जीवन अक्षय पॉलिसी:

देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी LIC अपनी हिट पॉलिसी जीवन अक्षय की बिक्री एक दिसंबर से बंद करने जा रही है. कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि लगातार ब्याज दरें घटने की वजह से इस पॉलिसी पर निवेशकों को अच्छे रिटर्न देना मुश्किल हो रहा है. वैसे ये संभव है कि इस प्‍लान को कम रेट के साथ दोबारा पेश किया जाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *