जानिये UP की वो 7 महापौर सीट जहां प्रतिष्ठा लगी दांव पर

लखनऊ। उत्तर प्रदेश निकाय चुनावों के परिणाम आने शुरू हो चुके हैं. इन नतीजों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बीजेपी के लिए लिटमस टेस्ट के रूप में देखा जा रहा है. वहीं राज्य के 16 नगर निगमों में से इन सात सीटों पर सबकी नजर बनी हुई हैं. इन सीटों को वीआईपी मेयर सीटें भी कहा जा रहा है. इन सीटों को जीतने वाली पार्टी प्रदेश में बेहतर हालत में मानी जाती रही है. न सिर्फ राजनीतिक बल्कि आर्थिक, सांस्कृतिक वगैरह समीकरणों में भी इन सीटों का अपना रुतबा है.

वाराणसी मेयर सीट:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी की मेयर सीट पर सभी राजनीतिक दलों ने अपनी पैनी नजर बनाए रखी है. इस बार वाराणसी की सीट अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) की महिलाओं के लिए आरक्षित है.

बीजेपी ने जहां संघ परिवार की करीबी माने जाने वालीं मृदुला जायसवाल को मेयर पद की प्रत्याशी के रूप चुनाव मैदान में उतारा है. वहीं समाजवादी पार्टी ने साधना गुप्ता को उम्मीदवार बनाया है. बता दें कि साधना बनारस के बड़े रियलस्टेट कारोबारी संजय गुप्ता की पत्नी हैं.

गोरखपुर मेयर सीट:
गोरखपुर की मेयर सीट सीधे सीएम योगी की प्रतिष्ठा मानी जाती है. बीजेपी ने सीताराम जायसवाल को चुनाव मैदान में उतारा है, वहीं समाजवादी पार्टी ने यहां कई बार सभासद रही राजकुमारी देवी के बेटे राहुल गुप्ता को प्रत्याशी बनाया है. बताया जा रहा है कि बसपा के हरेंद्र यादव भी यहां खासी टक्कर देते नजर आ रहे हैं. गोरखपुर नगर निगम के मेयर पद की सीट पिछड़ा वर्ग के लिए सुरक्षित है.

अयोध्या मेयर सीट:
अयोध्या-फैजाबाद पहली बार नगर निगम क्षेत्र घोषित होने के बाद इस बार समाजवादी पार्टी के टिकट पर किन्नर प्रत्याशी गुलशन बिन्दू मेयर पद का चुनाव लड़ रही हैं. तो बीजेपी के ऋषिकेश उपाध्याय को मेयर उम्मीदवार हैं.

मथुरा मेयर सीट:
मथुरा वृन्दावन रिजर्व सीट पर बीजेपी ने संघ के करीबी मुकेश बंधु आर्य को मेयर पद का प्रत्याशी बनाया है, जिन्हें कांग्रेस प्रत्याशी और पूर्व लेबर कमिश्नर मोहन सिंह सीधे टक्कर देते हुए नजर आ रहे हैं.

सहारनपुर मेयर सीट:
सहारनपुर नगर निगम में मेयर का चुनाव पहली बार होने जा रहा है. सहारनपुर में बीजेपी ने संजीव वालिया को उम्मीदवार बनाया है. वहीं उनकी सीधी टक्कर बसपा से हाजी फजलुर्रहमान दे रहे हैं. चार प्रमुख दलों के बीच चल रही रस्साकशी के बीच मतदाताओं के रुझान से स्पष्ट है कि बीजेपी और बीएसपी के बीच इस सीट पर सीधी टक्कर है.

इलाहाबाद मेयर सीट:
इलाहाबाद मेयर सीट पर योगी सरकार के कद्दावर कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल नंदी की पत्नी अभिलाषा गुप्ता नंदी को बीजेपी ने अपना उम्मीदवार बनाया है. वहीं समाजवादी पार्टी ने बिनोद चंद दुबे को मैदान में उतार कर कांग्रेस के विजय मिश्रा और बीजेपी का स्थानीय समीकरण बिगाड़ दिया है.

झांसी मेयर सीट:
झांसी की पहचान ऐतिहासिक शहर के रूप में है. बहुजन समाज पार्टी ने झांसी नगर निगम के मेयर पद के लिए ब्रिजेन्द्र सिंह व्यास को खड़ा किया है. वहीं बीजेपी ने रामतीर्थ सिंघल को मेयर पद का उम्मीदवार बनाया है, लेकिन कांग्रेस ने पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन को चुनाव मैदान में उतारकर मुकाबला त्रिकोणीय बना दिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *