भगवान भरोसे आपके लॉकर की सुरक्षा, बैंक नहीं जिम्मेदार

रायपुर। बैंक, एटीएम के साथ आपके लॉकर की सुरक्षा भी अब भगवान भरोसे हो गई है। इसके लिए बैंक अपने को किसी भी प्रकार से जिम्मेदार नहीं मानता। साथ ही आपके लॉकर का किसी भी प्रकार से बीमा भी नहीं होता। बैंक अफसरों का कहना है कि लॉकर का बीमा करना व्यवहारिक रूप से संभव नहीं है, क्योंकि इसमें रखी जाने वाली नकदी या आभूषण या किसी भी चीज की जानकारी बैंक को नहीं रहती।
यह पूरी तरह से गोपनीय ही रहता है। बैंक अफसरों का कहना है कि इस तरह की दिक्कतों के चलते ही इनका बीमा हो पाना मुश्किल है। इसलिए लॉकर खुलवाने और किराया पटाने के साथ लोगों को कुछ विशेष चीजों का ध्यान रखना चाहिए।

इन विशेष चीजों में यह है कि समय-समय पर उपभोक्ता को अपना लॉकर चेक करना चाहिए कि किसी तरह की कोई क्षति तो नहीं है। लॉकर को लेकर बैंक के निर्देशों का पालन करना चाहिए, बैंकों द्वारा लॉकर संबंधी नियम में भी बदलाव किए जाते हैं।

यूको बैंक के रिटायर्ड अधिकारी शिरीष नलगुंडवार का कहना है कि बैंकों को अपनी सुरक्षा व्यवस्था ही और पुख्ता करनी होगी। एसबीआई के डीजीएम ब्रम्ह सिंह का कहना है कि बैंक की सुरक्षा व्यवस्था पर पूरा ध्यान दे रहा है।

तीन तरह के होते है लॉकर

लॉकर छोटे,मध्यम और बड़े तीन तरह के होते हैं और इनकी कीमत भी इनके अनुसार ही 1000 रुपए से शुरू हो जाती है। अगर आप बैंक में खाताधारक हैं तो लॉकर की सुविधा भी मिल जाएगी। खाताधारक नहीं है तो आपको लॉकर की सुविधा के लिए एफडी करवानी होगी।

एटीएम में भी सुरक्षा का ध्यान नहीं

लॉकरों के साथ ही इन दिनों बैंक एटीएम की सुरक्षा भी भगवान भरोसे हो गई है। एटीएम में लॉक टूटे हुए है तो एसी खराब, कैमरा खराब जैसी समस्याएं तो आम हो गई है। कुछ एटीएम में इन दिनों मवेशी भी अपना डेरा जमाए रहते हैं। बैंकों द्वारा हालांकि हमेशा सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता होने का दावा किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *