सरकार किसानों को पहली बार देगी ऐसी सौगात, बढ़ेगा उत्पादन

रायपुर। छत्तीसगढ़ में फसलों की बेहतर पैदावार हो, किसानों को अच्छा मुनाफा हो, खेती में राज्य तरक्की करे, इसके मद्देनजर बीज विकास निगम खरीफ की फसल यानी जून-जुलाई 2018 तक किसानों को लिक्विड (तरल) बॉयो फर्टिलाइजर (उर्वरक) उपलब्ध करवाने जा रहा है।

अभनपुर के छोटे उरला क्षेत्र में लगे बायो फर्टिलाइजर पाउडर प्लांट को लिक्विड प्लांट में तब्दील किया जा रहा है। बहुत जल्द लिक्विड बॉयो फर्टिलाइजर की टेस्टिंग होगी। छत्तीसगढ़ में यह अपनी तरह का पहला प्लांट है। एक अनुमान के मुताबिक इस प्लांट से सालाना 3-4 लाख लीटर उर्वरक का उत्पादन होगा।

संभाग प्रबंधक अखिलेश प्रताप सिंह ने बताया कि उनकी टीम मध्यप्रदेश के गुना स्थित नेशनल फर्टिलाइजर सेंटर प्लांट का जायजा लेने गई थी। वहां लिक्विड बॉयो फर्टिलाइजर के बेहतर परिणाम मिले हैं। इससे फसल की उर्वरक शक्ति में इजाफा होता है।

सबसे खास बात यह भी है कि अभी पाउडर की वैधता 6 महीने होती है, जबकि लिक्विड की 1 साल होगी। गौरतलब है की कृषि विभाग से बीज विकास निगम को बॉयो फर्टिलाइजर की मांग भेजी जाती है, उसी मांग के आधार पर उत्पादन होता है।

अभी से लिक्विड की मांग शुरू हो चुकी है। ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि इसका उत्पादन पाउडर की तुलना में दोगुनी करनी होगी। ऐसे तैयार होगा फर्टिलाइजर लिक्विड फर्टिलाइजर में लिग्नाइट नहीं बल्कि, कैमिकल का इस्तेमाल होगा।

कैमिकल, पानी और बैक्टीरिया का मिश्रण होगा। इसमें बीज को मिलाकर रोपण करना होगा। बैक्टीरिया जड़ों में जाकर उन्हें सुरक्षित करेगा, उर्वरक क्षमता बढ़ाएगा। किसानों को लिक्विड फर्टिलाइजर 30 डिग्री तापमान पर संरक्षित करना होगा।

लिग्नाइट पर केंद्र लगाने जा रहा प्रतिबंध केंद्र सरकार लिग्नाइट के उत्खनन पर प्रतिबंध लगाने जा रही है। इसकी दो वजह हैं, पहला-देश में इसके सीमित स्रोत बचे हैं, दूसरा-यह वातावरण के लिए नुकसानदायक है। बता दें कि छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा में लिग्नाइट के स्रोत नहीं हैं। बीज विकास निगम अभी तक राजस्थान से इसका आयात कर पाउडर के रूप में बायो फर्टीलाइजर बनाता आ रहा है।

खरीफ सीजन आतेआते बीज विकास निगम किसानों को लिक्विड बॉयो फर्टीलाइजर उपलब्ध करवा देगा, जो किफायती दरों में मिलेगा। प्लांट लगाने का काम जारी है, यह पैदावार को सुरक्षित रखने और बढ़ाने में मददगार साबित होगा। – श्याम बैस, अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ बीज विकास निगम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *