निजी महाविद्यालयों में होंगे छात्रसंघ चुनाव

कटनी। छात्र संघ चुनाव को लेकर विश्व विद्यालय प्रशासन और निजी महाविद्यालयों के बीच पिछले कई दिनों से चल रहे टकराव के बाद अंततः छात्र संघ चुनाव कराये जाने का निर्णय ले लिया गया है। आज दोपहर महाविद्यालयों के प्राचार्यों ने राज्यमंत्री संजय सत्येंद्र पाठक से मुलाकात की थी। राज्यमंत्री ने विश्वविद्यालय प्रबंधन से बात की। इसके बाद राज्यमंत्री के कहने पर कटनी जिले के सभी प्राइवेट कॉलेज चुनाव कराने को राजी हो गए।

उल्लेखनीय है कि कल विश्वविद्यालय प्रबंधन की ओर से जहां चुनाव न कराने वाले कॉलेजों की मान्यता समाप्त करने के संकेत दिए गए थे तो दूसरी ओर आज कटनी के सभी 12 महाविद्यालयों के प्राचार्यों ने बैठक करने के बाद राज्यमंत्री संजय पाठक से मुलाकात की। इस बीच चुनाव कार्यक्रम के तहत आज मतदाता सूची का प्रकाशन होना था, लेकिन निजी महाविद्यालय प्रबंधन चुनाव न कराने के निर्णय पर अडिग थे। राज्यमंत्री संजय पाठक ने महाविद्यालय प्राचार्यों को सरकार और विश्व विद्यालय की मंशा से अवगत कराते हुए कहा कि निजी कालेजों को शासन और विश्वविद्यालय का निर्णय मानना चाहिए। इसके बाद कालेज प्राचार्य चुनाव कराने के लिए राजी हो गए।

मिली जानकारी के अनुसार छात्र संघ चुनाव के संबंध में जबलपुर स्थित अतिरिक्त संचालक कार्यालय में हुई रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय से संबंध 105 कॉलेजों के नोडल अधिकारियों की बैठक में मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा चुनाव से संबंधी प्रशिक्षण दिया गया। अतिरिक्त संचालक डॉ. के.एल. जैन के अनुसार विश्वविद्यालय के उप कुलपति की मौजूदगी में हुई बैठक में कटनी जिले के लिए नियुक्त निर्वाचन अधिकारी भी शामिल हुए और उन्होंने प्रशिक्षण लिया।

इस बैठक में कटनी जिले के सभी 12 निजी महाविद्यालयों के प्राचार्यों को भी बुलाया गया था लेकिन किसी भी महाविद्यालय के प्राचार्य नहीं पहुंचे। श्री जैन का कहना है कि कटनी के कॉलेजो ने अपने यहां चुनाव न कराने का निर्णय लिया है और इसकी जानकारी विश्वविद्यालय प्रशासन को भी भेजी गई है लेकिन निजी कॉलेज भी शासन के निर्णय से बंधे हुए हैं विश्वविद्यालय का आदेश मानने के लिए बाध्य हैं।
प्राचार्यों ने की बैठक
ताजा परिस्थिति पर चर्चा करने आज सुबह कॉफी हाऊस में सभी 12 महाविद्यालयों के प्राचार्यों की बैठक आयोजित की गई। बैठक में विश्वविद्यालय और कटनी के निजी महाविद्यालयों के बीच छात्र संघ चुनाव को लेकर बन रही टकराव की स्थितियों पर चर्चा की गई। प्राचार्य इस बात पर अडिग थे कि छात्र-छात्राओं की पढ़ाई को देखते हुए चुनाव नहीं कराए जाएं। बाद में एकत्रित होकर समस्त प्राचार्य प्रदेश शासन के राज्यमंत्री संजय सत्येन्द्र पाठक से मिलने उनके निवास पहुंचे। श्री पाठक ने प्राचार्यों से चर्चा के बाद विश्वविद्यालय प्रबंधन से बात की और सारी स्थितियों पर गौर करने के बाद उन्होंने प्राचार्यों से कहा कि वे महाविद्यालयों में चुनाव प्रक्रिया संपन्न कराएं। प्राचार्यों ने एक पत्र भी राज्यमंत्री को सौंपा है। उधर एक दिन पहले छात्र संगठन और अन्य छात्र नेताओं ने भी राज्यमंत्री से मुलाकात की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *