मैं चाहे जहां से निकलूं मेरी मर्जीः स्टेशन में अव्यवस्थाओं का आलम मुख्य प्रवेश द्धार के अलावा अन्य स्थानों से भी रहता है आवागमन

जबलपुर नगर संवाददाता। यूं तो मुख्य रेलवे स्टेशन में साफ सफाई तो बेहतर रहती है किन्तु यहां पर कुछ अव्यवस्थायों का आलम भी है जिस ओर यदि संबंधित जबावदेह अधिकारी ध्यान दें तो इस पर भी सुधार किया जा सकता है यहां पर जो अव्यवस्थायें फैली है उनमें है यात्रियों का अनाधिकृत प्रवेश…। जैसे कि मुख्य रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर छः में मुख्य प्रवेश द्धार के अलावा अन्य ऐसे भी स्थान है जहां से बे रोक टोकयात्रियों का प्रवेश जारी रहता है वह जगह है जैसे की प्लेटफार्म के अंदर बने स्केलेटर के पास बनी हुई दीवार में जो कांच की खिड़कियां लगी हुई है वह टूट गई है या फिर किन्ही शरारती तत्वों द्वारा तोड़ दिया गया जिससे जहां एक ओर रेलवे को छति तो हुई ही है वहीं इन स्थानों से अनाधि$कृत प्रवेश बना रहता है जिसका फायदा कुछ शरारती तत्व भी उठाने से नहीं चूकते है। वहीं इटारसी एन्ड एवं पार्सल द्धार से भी लोगों का आना जाना लगा रहता है इसमें से अधिकांश वह तत्व होते है जो मौका मिलते ही यात्रियो का कीमती सामान लेकर चंपत हो जाते है तात्पर्य जो जहां से जाना चाहे या वह आराम से इन स्थानों से आना जाना कर सकता है। इससे जहां एक ओर रेल यात्री अपने आप को असुरक्षित पा रहे है वहीं चोर उच्क्क ों का भी स्टेशन घूमना फिरना अब आम बात हो गई है। हालत तो यहां पर और जब बिगड़ जाते है जब लोग प्लेटफार्म ेके अंदर तक ऐसे स्थानों से अपना दो पहिया वाहन ले आते है। ऐसा ही नहीं ऐसे अनेंक मामले है जिन पर पूर्व मे रेलवे सुरक्षा बल द्वारा ऐसे वाहन चालकों के विरूद्ध अपराध भी पंजीबद्ध किया गया है।
एक नंबर में भी है यहीं हालात
स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर छः में इस तरह की अव्यवस्था तो फैली ही है वहीं एक नंबर प्लेटफार्म भी इनसे अछूता नहीं है जहां पर यात्रियों का अनाधिकृत प्रवेश बना रहता है वह स्थान है जीआरपी थाने के पास टूटी हुई दीवार,पार्सल गेट के साथ साथ कटनी एन्ड जहां से अधिकांशतः यात्रियों का अनाधिकृत प्रवेश होता है साथ ही चोर उचक्के भी इन स्थानों से घुस कर आराम से अंदर पहुंचते हैं इन अव्यवस्थाओं से जहां यात्रियों का सामान तो असुरक्षित रहता ही साथ ही वह अपने को भी असुरक्षित समझते है। जिससे आये दिन यहां पर चोरी की घटनाओं का होना आम बात हो गई है।
इंदिरा मार्केट के पास होती है घटनायें
मुख्य रेलवे स्टेशन में जहां तहां यात्रियों का आवागमन लगा रहता है वहीं इंदिरा मार्केट यार्ड के पास रात के समय सबसे अधिक घटनायें होती है जिसका कारण है यहां की सुरक्षा पर्याप्त नहीं है साथ ही यहां से गुजरने वाली गाड़ियां काफी मंद गति से चलने के कारण जहां बिना टिकट यात्री यहां से उतर कर सीधे चले जाते है वहीं चोर उचक्कों द्वारा यहां पर मौका मिलते ही बखूबी लूट एंव चोरी की घटनायों को अंजाम दिया जाना आम बात हो गई इस जगह पर यदि रेलवे के जबावदेह अधिकारी ध्यान दें तो यहां पर रेलिंग लगा कर इन बढ़ती घटनायों पर बिराम लगाया जा सकता है। किन्तु यह तभी संभव है जब इसके लिये रेल पुलिस से भी सुरक्षा की दृष्टी पर चर्चा की जाये।
पूर्व में हो चुकि है अनेंक वारदातें
जिस जगह का जिक्र पूर्व में किया गया यहां पर पहले भी अनेंक घटनायें घटित हो चुकि है जिसमे गाड़ी की रफ्तार कम होने से यहां पर नये नये तरीके से शरारती तत्व चोरी जैसी गंभीर वारदातों को अंजाम दे चुके है हालांकि इन मामलों में आरपीएफ द्वारा आरोपियों को अपनी गिरफ्त मे लेने के बाद उन्हें सलाखों के पीछे किया गया है।
यार्ड से भी होती है चोरियां
रात में यहां पर कुछ चोर उचक्के अंदर आते है और यहां पर रखी रेलवे कीकीमती संपत्ती को पार करचंपत हो जाते है जिसमें से अनेंक मामलों में तो आरपीएफ ने कुछ ऐसे तत्वों को अपनी गिरफ्त में लिया है और उनसे चोरी की रेल संपत्ती भी बरामद की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *