हिमाचल में बंदर बने चुनावी मुद्दा, नसबंदी के बाद भी नहीं घटी आबादी

शिमला। हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों में बंदरों का मुद्दा गरमाया है।किसानों और शहरों में रह रहे लोगों को बंदरों की समस्या से निजाद दिलाने के लिए प्रदेश सरकार की योजना का फायदा बंदर पकड़ने वालों को ही हुआ है। तीन साल में सरकार ने बंदर पकड़ने पर 3.5 करोड़ रुपये से अधिक की रकम खर्च कर दी है, लेकिन बंदरों का आतंक बरकरार है।

बंदरों को पकड़ कई मंकी कैचर लखपति बन गए, लेकिन किसानों की फसल और शहरों के लोग दोनों ही अब भी बंदरों से सुरक्षित नहीं हैं। प्रदेश सरकार ने बंदरों को मारने के आदेश भी जारी किए, लेकिन सरकार ने एक भी बंदर नहीं मारा।

यही नहीं सरकार ने बंदरों को मारने के लिए इनामी राशि भी घोषित की थी, जिसका भी कोई असर नहीं हुआ। हिमाचल की किसान सभा ने इस मसले पर निर्णायक लड़ाई छेड़ने का फैसला किया है।

प्रदेश में वर्ष 2015 में बंदरों की गणना की गई थी। उस समय हिमाचल में बंदरों की संख्या 2,07,614 थी। तीन साल में सरकार ने 57,934 बंदरों की नसबंदी की। इस अवधि में कुल 61,436 बंदर पकड़े गए और मंकी कैचर्स को तीन करोड़ 25 लाख 56 हजार 928 रुपये दिए गए।

नसबंदी के बाद भी बंदरों की भरमार

प्रदेश सरकार दावा कर रही है कि अभी तक एक लाख 25 हजार 266 नर और मादा बंदरों की नसबंदी की जा चुकी है। 2015 के दौरान की गई बंदरों की गणना के मुताबिक प्रदेश में करीब दो लाख सात हजार 615 बंदर हैं। आंकड़ों के मुताबिक बंदरों की नई पौध कम नजर आनी चाहिए, लेकिन शहरों में बंदरों की टोलियों में नवजात बच्चे दिखाई दे रहे हैं, जो नसबंदी योजना पर सवाल खड़े कर रहे हैं।

3 thoughts on “हिमाचल में बंदर बने चुनावी मुद्दा, नसबंदी के बाद भी नहीं घटी आबादी

  • November 13, 2017 at 11:45 PM
    Permalink

    Wonderful work! This is the type of info that should be shared around the web. Shame on the search engines for not positioning this post higher! Come on over and visit my website . Thanks =)

    Reply
  • November 16, 2017 at 12:05 PM
    Permalink

    Very well written post. It will be useful to everyone who utilizes it, including yours truly :). Keep up the good work – i will definitely read more posts.

    Reply
  • November 16, 2017 at 11:38 PM
    Permalink

    I was speaking to a good friend of my own regarding this and even about Arvind Pandit as well. I believe you made a few very good points in this article, we’re also excited to keep reading information from you.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *