एमबीबीएस परीक्षा में 20 फीसदी सवाल होंगे वस्तुनिष्ठ

भोपाल। एमबीबीएस कर रहे छात्रों के लिए परीक्षा पास करना आसान होगा। इसके लिए कोर्स के प्रश्न पत्र में वस्तुनिष्ठ प्रश्न भी शामिल किए जाएंगे। शुरू में 20 फीसदी सवाल वस्तुनिष्ठ (आब्जेक्टिव) होंगे। बाद में आब्जेक्टिव सवालों की संख्या बढ़ाई जाएगी। मप्र मेडिकल यूनिवर्सिटी ने यह निर्णय लिया।

यूनिवर्सिटी के कुलपित डॉ. आरएस शर्मा ने बताया कि अभी तक सभी सवाल निबंधात्मक होते थे, जबकि दूसरी परीक्षाओं में अब वस्तुनिष्ठ सवालों पर ज्यादा जोर है। एमडी-एमएस के लिए होने वाले ऑल इंडिया पोस्ट ग्रेज्युएट मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम (एआईपीजीएमईई) में भी आब्जेक्टिव सवाल ही पूछे जाते हैं।

लिहाजा कोर्स में आब्जेक्टिव सवाल होने से छात्रों को पीजी एंट्रेंस में भी सहूलितयत मिलेगी। दूसरा फायदा यह होगा कि उनके अंक अच्छे आएंगे। वस्तुनिष्ठ सवाल सही होने पर पूरे-पूरे अंक उन्हें मिल जाएंगे। इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि मूल्यांकनकर्ता छात्रों के साथ किसी तरह को भेदभाव नहीं कर पाएंगे। अ

इसे भी पढ़ें-  8 साल की बेटी का महीनों से बलात्‍कार कर रहा था पिता

भी एक ही तरह का उत्तर लिखने पर एक टीचर छात्र को अलग नंबर देता है। वही कापी दूसरे टीचर के पास जाती है तो स्कोर बदल जाता है। इस तरह की शिकायतें भी आती रहती हैं। दूसरा फायदा यह कि रि-वैल्युएशन व रि-काउंटिंग भी कम होगी।

डॉ. शर्मा ने बताया कि फिलहाल 20 फीसदी सवाल आब्जेक्टिव किए गए हैं। बाद में 80 फीसदी सवाल वस्तुनिष्ठ व 20 फीसदी निबंधात्मक करने की तैयारी है। हालांकि, उन्होंने पाठ्यक्रम में किसी तरह के बदलाव से इंकार किया है। उन्होंने कहा पाठ्यक्रम तो एमसीआई ने तय किया है। छात्रों को उसी के अनुसार पढ़ाई करना होगी। यूनिवर्सिटी सिर्फ परीक्षा पैटर्न में बदलाव कर सकती है।

इसे भी पढ़ें-  चुनाव आयोग का फैसला: फेसबुक बना रहेगा सोशल मीडिया पार्टनर

आयुर्वेद और होम्योपैथी की परीक्षा में भी हुआ बदलाव

डॉ. शर्मा ने बताया कि हाल में आयुर्वेद और होम्योपैथी बोर्ड की बैठक में बीएएमएस और बीएचएमएस परीक्षा में भी कुछ बदलाव किए गए हैं। अभी तक छात्रों को सभी सवाल हल करने होते थे, लेकिन अब उन्हें विकल्प दिए जाएंगे। मसलन 15 सवालों में 12 सवाल हल करने विकल्प रहेगा।

यह भी होगा फायदा

– छात्र दूसरी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिहाज से तैयार हो सकेंगे।

– उत्तर पुस्तिका जांचने में आसानी होगी। अभी इसमें देरी होती है, जिससे रिजल्ट भी पिछड़ जाता है।

– परीक्षा में छात्रों का समय कम होगा।

इसे भी पढ़ें-  इंजीनियर अब बिना जांच के उपभोक्ताओं को जारी नहीं कर पाएंगे बिजली बिल

– उत्तर पुस्तिकाओं की जरूरत कम हो जाएगी।

Leave a Reply