केंद्र के खिलाफ सड़क पर उतरेंगे संघ के संगठन

केंद्र सरकार की कई नीतियों के खिलाफ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े दो बड़े संगठन स्वदेशी जागरण मंच और भारतीय मजदूर संघ (बीएमएस) महारैली करेंगे। स्वदेशी जागरण मंच की 29 अक्तूबर को रामलीला मैदान में और बीएमएस की 17 नवंबर को इसी ऐतिहासिक मैदान में महारैली है। स्वदेशी जागरण मंच केंद्र सरकार की कई आर्थिक नीतियों को लेकर नाराज है, और बीएमएस भी कई श्रम नीतियों के खिलाफ है। ये दोनों संगठन देशभर से लोगों को दिल्ली ला रहे हैं। वैसे स्वदेशी जागरण मंच का मुख्य एजंडा चीनी सामान का बहिष्कार करने का प्रचार करना है और बीएमएस नीति आयोग के खिलाफ हैं और वह आयोग के फैसलों को मजदूर, कामगार और कृषि विरोधी मानता है। इस महारैली के जरिए वह केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ नीति आयोग को भंग करने की मांग करेगा।

इसे भी पढ़ें-  'सहज बिजली हर घर योजना, सौभाग्य' का शुभारंभ

स्वदेशी जागरण मंच की ओर से देशभर में स्वदेशी यात्रा निकाली जा रही है। वह यात्रा कल दिल्ली पहुंच रही है। ये यात्रा देशभर में आम लोगों के बीच एफडीआइ विरोधी प्रचार, चीनी सामान के बहिष्कार और भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रचार करती आ रही है। मंच ने देशभर से व्यापारिक संगठनों और किसानों के संगठनों को अपने साथ एकजुट किया है। स्वदेशी जागरण मंच के दिल्ली के संयोजक सुशील पांचाल के मुताबिक देशभर में कई संगठन विगत कई साल से देश के विभिन्न ज्वलंत मुद्दों पर अपने स्तर पर संघर्ष कर रहे हैं। स्वदेशी जागरण मंच के मीडिया प्रभारी ताराचंद उपाध्याय ने बताया कि रविवार को दिल्ली में होने वाली महारैली में करीब दस देशों के उन राजदूतों को भी न्योता दिया गया है, जो चीन के विरोधी माने जाते हैं।

Leave a Reply