मुझे राष्ट्रपति नहीं बनाना चाहती थीं सोनिया गांधीः प्रणब

नई दिल्ली। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की तीसरी किताब द कोलिशन ईयर्स हाल ही में लॉन्च हुई है जिसमें प्रणब मुखर्जी ने अपने राजनीतिक सफर की बाते साझा की हैं। इन्ही में से एक वो क्षण भी था जब उन्हें कांग्रेस ने राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया। प्रणब ने किताब में इस बारे में लिखा है कि सोनिया गांधी उन्हें राष्ट्रपति बनाने की इच्छुक नहीं थीं।

किताब में प्रणब दा ने उल्लेख किया है कि सोनिया गांधी उन्हें राष्ट्रपति बनाने की ख्वाहिशमंद नहीं थीं। वह उन्हें संगठन के बेहतरीन नेताओं में शुमार करती थीं। उन्हें लगता था कि प्रणब राष्ट्रपति बन गए तो संसद में कांग्रेस के पास उनके जैसी मारक क्षमता का नेता नहीं बचेगा। हालांकि वह यह भी मानती थीं कि देश के सर्वोच्च पद के लिए उनसे बेहतर कोई और नहीं था।

2007 व 2012 के घटनाक्रमों का हवाला देते हुए प्रणब ने किताब में लिखा कि 25 जून 2012 को सात रेसकोर्स रोड में कांग्रेस वर्किग कमेटी की बैठक हुई थी। इसमें सोनिया व तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह के अलावा सभी राज्यों के मुख्यमंत्री भी मौजूद थे। इसमें उनके नाम को आखिरकार हरी झंडी दिखाई गई। इससे पहले 29 मई को कांग्रेस अध्यक्ष के राजनीतिक सचिव अहमद पटेल ने प्रणब को कहा था कि राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए सोनिया उनके नाम पर सहमति दे सकती हैं, लेकिन वह तत्कालीन उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी के नाम पर भी विचार कर रही हैं।

दो जून को सोनिया के साथ अपनी बैठक का जिक्र करते हुए पूर्व राष्ट्रपति लिखते हैं कि कांग्रेस अध्यक्षा का कहना था कि वह उन्हें सबसे उपयुक्त उम्मीदवार मानती हैं, लेकिन सरकार में उनकी जगह कौन लेगा? सोनिया ने प्रणब से ही पूछा था कि अपने स्थानापन्न के लिए क्या किसी का नाम सुझा सकते हैं? तब प्रणब ने कहा था कि जो फैसला सोनिया लेंगी वह उन्हें मंजूर होगा।

प्रणब का कहना है कि जब वह सोनिया से मिलकर लौटे तो उन्हें लग रहा था कि डॉ. मनमोहन सिंह को राष्ट्रपति बनाया जा सकता है और उन्हें प्रधानमंत्री की जिम्मेदारी दी जा सकती है। जब सोनिया कौशांबी हिल्स में छुट्टी के लिए गईं तो राजनीतिक गलियारों में चर्चा थी कि इस फेरबदल के लिए वह मन बना चुकी हैं। प्रणब लिखते हैं कि एक बार भाजपा ने संसद में गतिरोध पैदा कर रखा था, तब जवाबी हमले की जिम्मेदारी सोनिया ने उन्हें दी। मामला शांत हो गया तब सोनिया ने कहा कि इसी वजह से वह उन्हें राष्ट्रपति भवन नहीं भेजना चाहतीं।

प्रणब लिखते हैं कि 13 जून को तृणमूल की मुखिया ममता बनर्जी सोनिया से मिलीं तो दो नामों पर विचार हुआ। इसमें उनके साथ उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी भी थे। लेकिन मुलायम सिंह यादव के साथ संयुक्त प्रेसवार्ता में ममता ने एपीजे अब्दुल कलाम, मनमोहन सिंह व सोमनाथ चटर्जी के नामों की घोषणा राष्ट्रपति उम्मीदवार के लिए की थी। इससे उनके परिवार व दोस्तों को निराशा भी हुई।

सोनिया की कॉल पर वह 14 जून को उनसे मिलने गए। लंबी बातचीत हुई और फिर मनमोहन सिंह ने उन्हें बताया कि आप यूपीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बन रहे हैं। उनका कहना है कि 2007 में भी वह राष्ट्रपति उम्मीदवार बनते-बनते रह गए। प्रणब ने लिखा है कि 2004 में जब सोनिया ने खुद प्रधानमंत्री न बनने का एलान किया, तब चर्चा थी कि उन्हें यह जिम्मा मिलेगा। इस पद के लिए राजनेता की जरूरत थी। मनमोहन के पास केवल वित्त मंत्रालय का ही अनुभव था।

8 thoughts on “मुझे राष्ट्रपति नहीं बनाना चाहती थीं सोनिया गांधीः प्रणब

  • November 13, 2017 at 11:47 PM
    Permalink

    What i don’t realize is actually how you’re not actually much more well-liked than you might be now. You’re very intelligent. You realize thus significantly relating to this subject, made me personally consider it from numerous varied angles. Its like men and women aren’t fascinated unless it’s one thing to do with Lady gaga! Your own stuffs outstanding. Always maintain it up!

    Reply
  • November 16, 2017 at 10:58 AM
    Permalink

    I have been absent for a while, but now I remember why I used to love this site. Thank you, I’ll try and check back more often. How frequently you update your site?

    Reply
  • November 16, 2017 at 10:24 PM
    Permalink

    You are absolutely correct, I would love to discover new information on the issue! I’m as well curious about Arvind Pandit as I consider it is very cool in these days. Keep it up!

    Reply
  • November 18, 2017 at 10:02 AM
    Permalink

    It was great reading this article and I think you are totally correct. Tell me in case you’re considering getapk apk, this is my main expertise. Hope to see you in the near future, be careful!

    Reply
  • November 18, 2017 at 10:36 PM
    Permalink

    I am curious to find out just what site system you’re using? I’m experiencing several small protection challenges with my most recent site related to thai lottery paper so I’d like to find a thing far more risk-free. Do you have any alternatives?

    Reply
  • November 22, 2017 at 2:39 PM
    Permalink

    Thanks a lot for your wonderful content! I definitely enjoyed it.I will ensure that I take note of the site and will return very soon. I would like to encourage you to keep going with your nice posts, maybe talk about facetime android too, have a superb morning!

    Reply
  • November 23, 2017 at 2:02 AM
    Permalink

    Admiring the hard work you put into the site and comprehensive information you provide. It really is good to discover a website every now and then that isn’t the similar out of date rehashed information. Fantastic read! We’ve saved your site and I’m adding your RSS feeds to my online marketing tools webpage.

    Reply
  • November 23, 2017 at 8:39 AM
    Permalink

    Thanks a bunch for the fantastic write-up! I truly appreciated learning about.I’ll make sure to save this website and will often come back from now on. I would really like to suggest you to ultimately keep going with your great writing, maybe think about Ventana Capital Inc too, have a superb day!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *