अति उत्‍साह में बोल गए मोदी-हरिवंश के सामने कोई ‘बिके’ नहीं

नई दिल्‍ली।  राज्यसभा के सभापति एम वैंकेया नायडू ने उच्च सदन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कल की एक टिप्पणी को ‘आपत्तिजनक’ पाए जाने पर आज सदन की कार्यवाही से निकाल दिया।

जदयू के सदस्य हरिवंश को कल उपसभापति चुने जाने के बाद उन्हें बधाई देते समय मोदी के संदेश में की गई एक टिप्पणी को नायडू ने आज कार्यवाही से हटाने का फैसला किया।

राज्यसभा सचिवालय के अनुसार, उपसभापति पद के चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार बी के हरिप्रसाद के बारे में की गयी टिप्पणी को आपत्तिजनक बताने वाली एक शिकायत पर सभापति ने यह फैसला किया। इस दौरान केन्द्रीय मंत्री रामदास अठावले द्वारा भी हरिप्रसाद के बारे में की गयी एक टिप्पणी को नायडू ने सदन की कार्यवाही से हटा दिया।

इसे भी पढ़ें-  BJP के मंत्री की अनूठी पहल, लोकोत्सव में बांटे 50 हजार सैनिटरी नैपकिन


बता दें कि प्रधानमंत्री ने हरिवंश की जीत के बाद कहा था कि सिंह कलम के धनी हैं। वह पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के करीबी रहे हैं, हम हम सब हरि भरोसे है। इसके बाद उन्होंने बीके हरिप्रसाद पर टिप्पणी करते हुए ​कहा कि दूसरी तरफ बीके थे, बीके हरि, कोई न बीके। हरिवंश के सामने कोई ‘बिके’ नहीं।


सदन में राष्ट्रीय जनता दल के सांसद मनोज झा ने इस पर आपत्ति जताई। उन्होंने इस टिप्पणी के खिलाफ पॉइंट ऑफ ऑर्डर भी उठाया था। झा ने दावा किया कि स्वतंत्र भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी प्रधानमंत्री की टिप्पणी को कार्यवाही से हटाना पड़ा हो। बता दें कि वीरवार को हरिवंश नारायण सिंह राज्यसभा के उपसभापति चुने गए। NDA उम्मीदवार हरिवंश के पक्ष में राज्यसभा में 125 सदस्यों ने वोट दिया था को बीके हरिप्रसाद को 101 वोट मिले थे।

Leave a Reply