हो सकते हैं छात्र संघ चुनाव के नियमों में अचानक परिवर्तन, विभाग तैयार

जबलपुर। छात्रसंघ चुनाव से प्राइवेट संस्थान और व्यावसायिक पाठ्यक्रमों को बाहर रखें जाने की सूचना मिलते ही छात्र नेताओं और संगठनों में बेचैनी बढ़ गई है। छात्र संगठनों ने इस निर्णय पर सवाल उठाते हुए उच्च शिक्षा विभाग को आपत्तियां प्रस्तुत की है। प्रोफेशनल कोर्सेज और प्राईवेट कॉलेज में भी चुनाव कराने की मांग की है। शासन एवं उच्च शिक्षा विभाग के इस निर्णय पर आई आपत्तियों के बाद उच्च शिक्षा विभाग चुनाव नियमावली पर दोबारा विचार-विमर्श कर रहा है। उक्त विभागों के लिए अचानक चुनाव सम्बंधित निर्णय आने की संभावना के चलते परंपरागत विश्वविद्यालयों ने प्रोफेशनल कोर्सेज में चुनाव को लेकर आवश्यक तैयारियां भी शुरू कर दी है।

आरडीवीवी में कई विभाग में नहीं होंगे चुनाव
रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय में ही सिर्फ करीब 6 से ज्यादा प्रोफेशनल कोर्सेज है। विवि में परंपरागत पाठ्यक्रमों के छात्र-छात्राओं की संख्या मुकाबले इन छह प्रोफेशनल कोर्स में पढऩे वाले छात्र-छात्राओं की संख्या अधिक है। इनमें चुनाव नहीं होने से इन विभागों के छात्र-छात्राओं को नेतृत्व का मौका नहीं मिलेगा। रादुविवि में बैचलर ऑफ एजुकेशन, लॉ विभाग, फार्मेसी विभाग एवं बिजनिस मैनेजमेंट को प्रोफेशनल कोर्स की कैटेगरी में रखा गया है। कुछ अन्य पाठयक्रमों बीवोक, होटल मैनेजमेंट, मार्केटिंग, हॉस्पिटल मैनेजमेंट आदि भी इस दायरे में आ गए हैं। एेसी ही स्थिति का सामना शासकीय व अनुदान प्राप्त कॉलेजों में चलने वाले प्रोफेशनल कोर्स के छात्रों को भी करना पड़ेगा।
केम्पस में तैयारियां
छात्रसंघ चुनाव के लिए जबलपुर संभाग में भोपाल स्तर पर अधिकारियों की तैनाती कर दी गई है। उ”ा शिक्षा विभाग में विशेष कर्तव्यस्त अधिकारी डॉ.अमित जैन, सहायक संचालक नर्मदा प्रसाद ठाकुर एवं आभा दुबे की तैनाती कर दी गई है। 23 से 30 अक्टूबर के दौरान सभी शासकीय कर्मचारियों को मुख्यालय में रहने के आदेश जारी किए गए हैं। आरडीवीवी के कुलपति केडी मिश्र के अनुसार चुनाव में कई पाठयक्रमों को प्रोफेशनल कोर्स के दायरे में लाया गया है, जिससे उन विभागों में चुनाव प्रक्रिया नहीं हो सकेगी। हालांकि उ”ास्तर पर विचार विमर्श चल रहा है। विवि दोनों परिस्थितियों के लिए तैयार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *