मुख्य तौर पर देवरी से गोसलपुर स्टेशन के बीच ब्लॉक लिया गया। इस वक्त में 70 से ज्यादा टूटे स्लीपर बदले गए, ब्रिज की मराम्मत से लेकर विद्युतीकरण का काम भी किया गया। हालांकि इस दौरान ट्रेनों की आवाजाही प्रभावित रही। एक दर्जन से ज्यादा ट्रेनों के पहिए थमे रहे तो कई ट्रेनें देरी से चलीं।

डेढ़ घंटे में जबलपुर से सिहोरा पहुंची गोंडवाना

ब्लॉक की वजह से एक दर्जन से ज्यादा ट्रेनों के पहियों की रफ्तार धीमी हो गई। जबलपुर से निजामुद्दीन जाने वाली गोंडवाना जबलपुर से 3 मिनट लेट 3.03 पर रवाना हुई, लेकिन 38 किमी दूर सिहोरा स्टेशन तक की दूरी तय करने में इसे एक घंटे 45 मिनट का वक्त लग गया। 4.15 पर कटनी पहुंचने वाली गोंडवाना 5.49 पर पहुंची। महानगरी 11093 जबलपुर 47 मिनट लेट पहुंची । शाम 5.35 पर कटनी पहुंचने वाली महानगरी रात पौने आठ बजे पहुंची।

इसे भी पढ़ें-  आपस में ही भिड़े कांग्रेसी, बैठक में हुई मारपीट और गाली-गलौच

ब्लॉक में रेलवे ने किया यह काम

– 116 मजदूर और 9 कर्मचारियों ने मेगा ब्लॉक पर काम किया।

– देवरी, गोसलपुर, सिहोरा और डुंडी के बीच मरम्मत का काम चला।

– कटनी यार्ड में भी मेंटेनेंस और सेफ्टी से जुड़े काम हुए।

– कुल 780 मीटर के ट्रैक की मरम्मत की गई।

– सिग्नल, दूरसंचार, विद्युतीकरण का काम भी चला।