गुलाम नवी आजाद के बयान से फंसी कांग्रेस, भाजपा ने किया पलटवार

नेशनल डेस्क:  भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद के जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों के अभियान पर दिए गए विवादित बयान को आतंकवादियों एवं उन्हें शह देने वाले पाकिस्तान की भाषा करार दिया है। केन्द्रीय कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि कांग्रेस के नेता प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के प्रति घृणा के कारण इतना नीचे गिर गए हैं कि वे जम्मू-कश्मीरमें देश के लिए लड़ रहे सुरक्षा बलों का मनोबल गिराने के साथ-साथ आतंकवादियों एवं उन्हें शह देने वाले पाकिस्तान की भाषा बोलने लगे हैं।

इसे भी पढ़ें-  C प्लेन से उड़ान भरेंगे पीएम मोदी, जानिए क्या है प्लेन की खासियत

Yashbharat
आजाद की टिप्पणी पर जवाब दें सोनिया और राहुल गांधी
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सेना और पुलिस के जवान देश के लिए मरते हैं ऐेसे में उनके साहस को तोड़ना दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस जवान की शहादत के बीच आजादी मांग रही है। प्रसाद ने कहा कि आजाद का बयान बेहद गैरजिम्मेदाराना, शर्मनाक और दुर्भाग्यपूर्ण है। वह क्या संकेत देना चाहते हैं। ऐसी टिप्पणी वह नेता कर रहा है जो राज्य का मुख्यमंत्री रहा है और पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद का नग्न चेहरा देखा है। उन्होंने इस पर सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से स्पष्टीकरण देने की मांग की।
Yashbharat
आजाद ने दिया विवादित बयान 
बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री एवं राज्यसभा में विपक्ष के नेता आजाद ने एक बयान में एक आतंकवादी को मारने के लिए तेरह नागरिकों को मारने की बात कही थी। इसी के साथ ईद की छुट्टी पर जा रहे सेना के जवान औरंगकोब की आतंकवादियों द्वारा अपहरण करके हत्या के बाद रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और सेना अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत के उसके घर जाकर शोक व्यक्त करने को ड्रामा करार दिया था।
Yashbharat

इसे भी पढ़ें-  जीएसटी पर फैसले को लेकर उद्धव ने की सरकार की तारीफ

लश्कर ने किया कांग्रेस का समर्थन
वहीं गुलाम नबी के इस बयान के बाद आतंकी संगठन लश्कर ने प्रेस रिलीज जारी कर कहा कि इस मामले में हमारी राय कांग्रेस नेता की गुराय से अलग नहीं है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू कर जगमोहन युग को वापस लाना चाहती है ताकि बुनियादी ढांचे को तोड़ने और निर्दोषों के नरसंहार को बढ़ावा दिया जा सके।

Leave a Reply