पीएम मोदी की निंदा शुरू होते ही बैरंग लोटे एनसीसी कैडेट्स, जानें पूरा माजरा

जबलपुर। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के जन्मदिन पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आलोचना कांग्रेस को महंगी पड़ गई। पूर्व विधायक ने एनसीसी कैडेट्स को राहुल के जन्मदिन पर सद्भावना दौड़ के लिए बुलाया, लेकिन जब पूर्व विधायक ने प्रधानमंत्री की नीतियों के खिलाफ बोलना शुरू किया तो कैडेट्स नाराज हो गए। दौड़ कार्यक्रम छोड़ कैडेट्स वापस अपनी-अपनी बसों में बैठ गए। कैमरे के सामने कांग्रेस नेताओं की किरकिरी हुई तो वे कैडेट्स को मनाने पहुंच गए, लेकिन कोई भी कैडेट्स दौड़ में शरीक नहीं हुआ।

क्या था मामला

कांग्रेस ने राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के जन्मदिन पर रन फॉर आरजी नाम से दौड़ का आयोजन किया। मालवीय चौक से दौड़ होनी थी। सुबह 9 बजे का वक्त तय हुआ। कांग्रेस ने भीड़ जुटाने के लिए 2 एमपी महिला बटॉलियन को भी इसमें शामिल कर लिया। बसों में भरकर एनसीसी कैडेट्स आए। दौड़ शुरू होने वाली ही थी, इसी दौरान पूर्व विधायक लखन घनघोरिया कैमरे के सामने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नीतियों की आलोचना करने लगे।

इसे भी पढ़ें-  थानेदार बन कर शादी कर ली निकला सिपाही पत्नी पहुंची SP के पास!

उन्होंने महंगाई, भ्रष्टाचार, महिला आपराध पर हमला बोला। मामला राजनीति होने से कैडेट्स ने कार्यक्रम से बायकाट करने का फैसला लिया। चर्चा है कि प्रधानमंत्री के खिलाफ बोलने से एनसीसी कैडेट्स नाराज हुए। मीडिया कर्मियों के सामने ही कार्यक्रम छोड़कर जाने लगे तो कांग्रेस नेता परेशान हो गए। फौरन कैडेट्स को मनाने के लिए नेता पहुंचे, उन्हें वापस दौड़ में हिस्सा लेने का निवेदन किया लेकिन कोई नहीं माना।

पर्यावरण दौड़ बताकर बुलाया गया था

श्रीराम इंजीनियरिंग कॉलेज में 2 एमपी महिला बटालियन का कैंप है। इसमें करीब 500 एनसीसी कैडेट्स हैं। एनसीसी के अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि उन्हें कांग्रेस नेताओं ने फोन पर एनसीसी कैडेट्स को कार्यक्रम में भेजने का आग्रह किया। जिसे बिना जांच पड़ताल अधिकारियों ने मान लिया।

इसे भी पढ़ें-  चित्रकूट में मतदान केंद्र के बाहर दिख रहीं लम्बी कतारें

कांग्रेस नेताओं ने बस भेजी जिसमें बैठकर कैंप से कैडेट्स मालवीय चौक पहुंचे। अधिकारी के अनुसार नगर निगम की पर्यावरण दौड़ का आयोजन होने की जानकारी उन्हें दी गई, लेकिन कार्यक्रम में पहुंचने के बाद जैसे ही राजनीतिक कार्यक्रम समझ में आया तो अफसरों ने फौरन कैडेट्स को वापस कैंप में चलने का फरमान दिया। इसके बाद कैडेट्स लौट गए।

कांग्रेस ने कहा कार्यक्रम लेट होने वापस लौटे कैडेट्स –

युवक कांग्रेस के शशांक दुबे ने कहा कि एनसीसी कैडेट्स प्रधानमंत्री की खिलाफ बोलने की वजह से नहीं गई। दरअसल कैडेट्स को सुबह 9 बजे से बुलाया गया। कार्यक्रम किन्हीं वजह से देरी से प्रारंभ हुआ। कैडेट्स के शेड्यूल में 11 बजे वापस लौटना था। इस वजह से वो कार्यक्रम छोड़कर गए। बेवजह मामले को पीएम नरेन्द्र मोदी से जोड़ा जा रहा है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष कांग्रेस राहुल गांधी के जन्मदिन पर दौड़ का आयोजन हुआ। इसमें देश में बढ़ती महंगाई, भ्रष्टाचार, महिला आपराध को लेकर केन्द्र सरकार की नीतियों को कठघरे में रखा गया।

इसे भी पढ़ें-  लोकायुक्त पुलिस ने रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकडा गया जनपद का बाबू, सह आरोपी को भी पकड़ा 

राजनीतिक दिखा तो लौट आए 

2एमपी बटालियन के कमांडेंट कर्नल वीके चौहान ने कहा कि आयोजकों ने पर्यावरण के लिए रैली निकालने की जानकारी दी। कैडेट्स को इसी वजह से भेजा गया। मौके पर पहुंचकर जैसे ही समझ में आया कि आयोजन राजनीतिक मकसद के लिए हो रहा है तो फौरन कैडेट्स वापस लौट आए। क्योंकि एनएससी कैडेट्स किसी भी राजनीतिक कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लेते। वहीं कैंप में भी उनका अन्य आयोजन होना था। मोदी या राहुल जैसा कोई मुद्दा नहीं है।

Leave a Reply