टीवी देखना, पर एसी-हीटर चलाकर दिवालिया मत कर देना : सीएम शिवराज

भोपाल । आप लोग घरों में जो बिजली जला रहे हैं उसका बिल अब हर महीने 200 रुपए आएगा। इसमें एक लाइट व पंखा चलाना। आराम से टीवी भी देखना। लेकिन एसी व हीटर चलाकर मुझे दिवालिया मत कर देना। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यह बात कही।

वे बुधवार को लाल परेड ग्राउंड में असंगठित श्रमिक सम्मेलन में बोल रहे थे। उन्होंने कहा जुलाई से फ्लैट रेट पर बिल आएगा। उन्होंने संबल योजना का शुभारंभ कर गरीबों के जीवन में नया सबेरा लाने का दावा किया। उन्होंने योजना को दुनिया की सबसे बड़ी कल्याणकारी योजना बताई। साथ ही चार साल में हर गरीब को पक्का मकान देने का भरोसा दिलाया। निःशुल्क उपचार देने की बात भी कही। कार्यक्रम के अंत में उन्होंने हितग्राहियों को ई-रिक्शा व योजनाओं के चेक बांटे।

इसे भी पढ़ें-  MP की ये 7 ऐतिहासिक इमारत भी निजी हाथों में देने की तैयारी

कार्यक्रम में सहकारिता मंत्री विश्वास सारंग, सांसद आलोक संजर, महापौर आलोक शर्मा, नगर निगम अध्यक्ष सुरजीत सिंह चौहान, जिला पंचायत अध्यक्ष मनमोहन नागर, बीडीए अध्यक्ष ओम यादव, असंगठित श्रमिक मंडल के अध्यक्ष सुल्तान सिंह शेखावत, विधायक सुरेन्द्रनाथ सिंह, रामेश्वर शर्मा, विष्णु खत्री आदि मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने ये भी कहा –

  • साठ वर्ष की उम्र तक मृत्यु होने पर दो लाख रूपये और दुर्घटना में मृत्यु पर चार लाख रूपये मिलेंगे। अंतिम संस्कार के लिये 5 हजार रुपए देंगे। आमदनी बढ़ाने हाथठेला वाले को ई-लोडर व रिक्शा वालों को ई-रिक्शा मिलेगा।

  • श्रमिक महिलाओं को गर्भावस्था में 4 हजार रुपए व प्रसूति उपरांत 12 हजार रुपए की सहायता मिलेगी। बेटा-बेटी की पढ़ाई में फीस की बाधा भी खत्म होगी। पहली कक्षा से लेकर कॉलेज तक की पढ़ाई की फीस सरकार भरेगी।

  • 37 लाख 50 हजार गरीब बेघर हैं। सरकार हर गरीब को पक्का मकान देने के लिये 4 सालों में 40 लाख मकान बनवाएगी। शहरों में भूमि की कमी होने पर बहु-मंजिला इमारत में मकान देंगे।

  • योजना का क्रियान्वयन बहुत सरल तरीके से करने पंजीबद्ध हितग्राही को स्मार्टकार्ड देंगे।

इसे भी पढ़ें-  ई-पालिकाः 5 हजार प्रकरणों का निराकरण कर प्रदेश में पहले पायदान पर पहुंचा जबलपुर , कटनी सूची से हुआ बाहर

कार्यक्रम के दौरान छात्राओं का हंगामा, पुलिस ने की कार्रवाई –

मुख्यमंत्री के भाषण के दौरान कुछ छात्राओं ने हंगामा कर दिया। ये नारे लगा रही थी। छात्राएं पुलिस भर्ती परीक्षा में ऊंचाई में छूट देने की मांग को लेकर धरने पर बैठीं थी जो कार्यक्रम पहुंच गईं। ये छूट मे मांग संबंधी मुख्यमंत्री की घोषणा पूरी करने पर अड़ी थी जिन पर पुलिस ने बाद में जेल भेजने की कार्रवाई की। इस पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा तंज कसते हुए कहा कि यह है मामा का अपनी भांजियों के लिए सम्मान। बता दें कि कार्यक्रम के दौराण दूसरे हितग्राहियों ने भी नारेबाजी की थी।

Leave a Reply