मोदी सरकार का तोहफा, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत अब मिलेगा बड़ा घर

बिजनेस डेस्कः केन्द्र सरकार ने शहरी क्षेत्रों में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सब्सिडी के दायरे वाले सस्ते आवास के लिए निर्मित क्षेत्र (कार्पेट एरिया) में बढ़ोत्तरी करने का फैसला किया है। इन बदलावों से मिडिल क्लास को अब सबसे ज्यादा फायदा मिलेगा।

घरों का साइज बढ़ाया
मिडिल इनकम ग्रुप यानि एमआईजी-I और एमआईजी-II कैटेगरी में घरों का कार्पेट एरिया बढ़ा दिया गया है। एमआईजी-I में एरिया 120 वर्गमीटर से बढ़ाकर 160 वर्गमीटर कर दिया गया है। वहीं, एमआईजी-II में घरों का एरिया 150 वर्गमीटर से बढ़ाकर 200 वर्गमीटर कर दिया गया है। एमआईजी-I में सालाना 6 से 12 लाख तक कमाने वाले वालों को और एमआईजी-II में 12 से 18 लाख तक कमाने वालों को घर के लिए लोन मिलता है।

इसे भी पढ़ें-  रीवा में दुनिया का सबसे बड़ा सोलर प्लांट, रखी गई आधारशिला

लाखों रुपए का होगा फायदा
गौरतलब है कि एमआईजी-I में ग्राहक को 4 फीसदी की लोन सब्सिडी मिलती है। एमआईजी-II में ग्राहक को 3 फीसदी की लोन सब्सिडी मिलती है। एमआईजी-I में ग्राहक को 235068 रुपए का सीधा फायदा मिलेगा। वहीं, एमआईजी-II में ग्राहक को 230156 रुपए का सीधा फायदा मिलेगा।

क्या है स्कीम
दरअसल सरकार ने पिछले साल एक जनवरी से प्रधानमंत्री आवास योजना उन लोगों के लिए लागू की थी, जिनकी आमदनी सालाना 6-12 लाख रुपए है और दूसरी श्रेणी में, जिनकी आमदनी 12-18 लाख रुपए सालाना है। इनमें से 6-12 लाख रुपए सालाना आमदनी वालों को सरकार ने एमआईजी वन कैटिगरी में रखा था। इन लोगों के लिए स्कीम थी कि यदि इस आमदनी वाले ग्राहक लोन लेकर मकान खरीदते हैं तो उनके लोन में से 9 लाख रुपए के लोन की राशि पर जो भी ब्याज दर लगेगी, उसमें से 4 फीसदी ब्याज सरकार सब्सिडी के रूप में देगी। इसी तरह से दूसरी श्रेणी के लोगों के लिए तय किया गया था कि अगर वे लोन लेकर मकान खरीदते हैं तो 12 लाख रुपए तक के ब्याज पर 3 फीसदी ब्याज राशि सरकार सब्सिडी के रूप में देगी। इन दोनों श्रेणियों के लोगों को इस तरह से एमआईजी वन और एमआईजी टू के रूप में बांटा गया था।

Leave a Reply